वो खाना खा रही थी तभी…

gangrape-clipartकौशांबी। जिले में पुलिस नियन्त्रण विहीन हो चुकी है। सूबे में लागू नियम कानून से ऊपर उठकर काम करने लगी हैं कौशाम्बी पुलिस।

हैवानियत की शिकार एक  विधवा महिला इस उम्मीद के साथ न्याय की प्रथम सीढी पर मत्था टेक इंसाफ की गुहार लगाने पहुंची। लेकिन थाने पर मुस्तैद थानेदार साहब ने इस महिला की फरियाद को तवज्जो न देते हुए दुत्कार कर भगा दिया। जिसके बाद  विधवा महिला पुलिस अधीक्षक के पास गुहार लगाने पहुंची।
घर में खाना खाते वक्त लूट ली विधवा की आबरू
घटना चरवा थाना इलाके के लोही गांव की है। मिली जानकारी के मुताबिक 25 दिसंबर की रात करीब 8 बजे गांव के ही एक युवक ने इस विधवा महिला को उसी के घर में उस वक्त दबोच लिया जब महिला खाना खा रही थी। महिला के विरोध करने पर युवक ने अपराधिक बल का प्रयोग कर उसकी आबरू लूट ली। युवक के चंगुल से छूटते ही विधवा महिला चीखी चिल्लाई तो ग्रामीण इकठ्ठा हो गए। मौका पाते ही दरिंदा युवक ग्रामीणों को चकमा देते हुए भाग निकला।

युवक की दरिन्दगी की शिकार इस विधवा महिला ने जब अपने ऊपर हुए अत्याचार की शिकायत चरवा पुलिस से की तो थाने में बैठे साहब ने उसे जाँच का हवाला देते हुए दुत्कार कर भगा दिया।

मामले की शिकायत आज विधवा महिला ने कौशांबी पुलिस के अधीक्षक एजिलरसन से करते हुए कार्यवाही की मांग की। फिर भी मामले में अभियोग नही दर्ज हो सका है। एसपी की चौखट से भी सिर्फ जांच उपरांत कार्यवाही का अश्वासन मिला है।
डाक्टर नहीं पुलिस करेगी जांच की पुष्टि

नियमत: जब कोई महिला बलात्कार का आरोप लगाती है तो सबसे पहले चिकित्सकीय जांच की जाती है कि उसके साथ बलात्कार हुआ या नही। उसके  बाद पुलिस परिस्थिति की जांच करती  है। लेकिन जिले की पुलिस ने सीधे तौर पर पुलिस जांच की बात कर महिला को थाने से भगा दिया।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button