लॉकडाउन के खत्म होने के बाद अक्टूबर में अर्थव्यवस्था फिर पटरी पर लौटी

लॉकडाउन के बाद से देश की अर्थव्यवस्था लगातार बिगड़ती ही रही है। देश में अनलॉक की प्रक्रिया शुरू होने के बाद से अक्टूबर में अर्थव्यवस्था फिर से पटरी पर लौटती नजर आई।

नई दिल्ली: लॉकडाउन के बाद से देश की अर्थव्यवस्था लगातार बिगड़ती ही रही है। देश में अनलॉक की प्रक्रिया शुरू होने के बाद से अक्टूबर में अर्थव्यवस्था फिर से पटरी पर लौटती नजर आई। अक्टूबर महीने में कई ऐसे आकंड़े आए हैं जिससे अब अर्थव्यवस्था पहले से बेहतर स्थिती में नजर आ रहा है।

देश में कई सेक्टर में लॉकडाउन लग जाने के बाद से कई सेक्टर में सारे काम बन्द पड़े थे जो कि अनलॉक के बाद से फिर से शुरू हो गए हैं। हर सेक्टर में धीरे धीरे बढ़ता ग्रोथ देश को कोरोना के पहले वाली अर्थव्यवस्था पर फिर से ला रहा है। इस अक्टूबर में अर्थव्यवस्था पिछले अक्टूबर के मुकाबले भी ज्यादा ठीक रही।

जीएसटी कलेक्शन में बढ़ोतरी

अर्थव्यवस्था के फिर से पटरी पर लौटने का अन्दाजा अक्टूबर महीने में हुए जीएसटी कलेक्शन से लगाया जा सकता है। अक्टूबर महीने में जीएसटी कलेक्शन एक लाख करोड़ रूपये के पार रहा जो कि पिछले साल अक्टूबर में हुए कलेक्शन से भी अधिक है। मार्च से लगातार हो रहे गिरावट के करीब आठ महीने बाद जीएसटी कलेक्शन ने इस आंकड़े को पार किया है।

वित्त मंत्रालय ने जीएसटी कलेक्शन को लेकर जो आंकड़े दिये उसके अनुसार अक्टूबर में जीएसटी कलेक्शन 1.05 लाख करोड़ रूपये रहा। फरवरी 2020 में यह आंकड़ा 1,05,366 करोड़ रूपये था। इस सितम्बर जीएसटी कलेक्शन का यह आंकड़ा केवल 95480 करोड़ रूपये ही था।

बिजली खपत बढ़ने से अर्थव्यवस्था में सुधार

लॉकडाउन हटने के बाद से देश में बिजली की भी खपत काफी तेजी से बढ़ी है।
लॉकडाउन हटने के बाद औद्यौगिक और वाणिज्यिक गतिविधिया फिर से शुरू हुई है जिससे बिजली की मांग फिर से बढ़ गई है। अक्टूबर 2020 में 110.94 अरब यूनिट बिजली की खपत हुई जो कि अक्टूबर 2019 में हुए बिजली खपत से 13.38 फीसदी अधिक है।

गाड़ियों की खरीदारी में इजाफा

अक्टूबर महीने में गाड़ियों की खरीदारी भी बढ़ी है जो अर्थव्यवस्था के फिर से पटरी पर आने का एक बड़ा कारण है। मारूति सुजुकी ने कुल 1,82,448 गाड़ियां बेची जबकि हुंडई मोटर्स ने 68,835 गाड़ियां बेची जो कि पिछले महीने के मुकाबले 20 फीसदी ज्यादा है।। कम्पनी के मालिकों के मुताबिक त्यौहार के समय गाड़ियों के और बिक्री होने की उम्मीद है।

Related Articles