एलेक्स नवेल्नी मामले में रूस पर प्रतिबंध नहीं लगायेगा यूरोपीय संघ

माॅस्को: रूस में विपक्षी नेता एलेक्स नवेल्नी को जहर देने के मामले में हाल में हुए खुलासे से पता चला है कि जर्मनी के अधिकारियों को इस संबंध में पहले से ही जानकारी थी, इसलिए यूरोपीय संघ इसके आधार पर रूस पर नये प्रतिबंध नहीं लगायेगा।

जर्मनी के विदेश मंत्री हेइको मास ने बुधवार को समाचार एजेंसी डीपीए को यह जानकारी दी। इससे पहले दिसंबर में नवेल्नी ने एक जांच का प्रकाशन किया था जिसमें उन्होंने दावा किया था कि वह रूसी सुरक्षा एजेंसी के उन आठ अधिकारियों के नाम जानते हैं जिन्होंने कथित रूप से कई वर्षों तक उनका पीछा किया और कई बार उन्हें जहर देने की कोशिश भी की।

इन मीडिया संस्थानों ने नवेल्नी के लेख को किया था प्रकाशित

एलेक्स नवेल्नी की ओर से प्रकाशित किए गए लेखों को अमेरिकी मीडिया संस्थान सीएनएन और जर्मनी की पत्रिका स्पाइजेल ने भी प्रकाशित किया था। इसके अलावा खोजी पत्रकारिता की वेबसाइट बेलिंगकैट ने भी इसे प्रकाशित किया था।

यह भी पढ़ें- ब्रिटेन में कोरोना का एक और नया स्ट्रेन से दहशत, साउथ अफ्रीका की उडानों पर लगाई पाबंदी

इस पत्रिका में पहले भी रूस की आलोचना से संबंधित लेख प्रकाशित हो चुके हैं। पत्रिका में यूक्रेन में एमएच17 विमान हादसे को लेकर भी रूस की आलोचना की गयी है।

जांच के परिणाम न तो नये हैं और न ही अप्रत्याशित

जर्मनी के विदेश मंत्री के मुताबिक जांच के परिणाम न तो नये हैं और न ही अप्रत्याशित हालांकि यूरोपीय संघ रासायनिक हथियार समझौते का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ पहले ही कड़े प्रतिबंध लागू कर चुका है।

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने हाल में कहा था कि इस मामले को लेकर रूस अन्य देशों से मिली जानकारियों के आधार पर आगे की जांच करने के लिए तैयार है।

गौरतलब है कि नवेल्नी 20 अगस्त को अचानक बीमार हो गए थे जिसके बाद उन्हें ओस्क शहर के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया था। स्थानीय डॉक्टरों ने कहा था कि जांच में जहर देने का कोई सुबूत नहीं मिला है। इसके बाद इलाज के लिए एलेक्स नवेल्नी को जर्मनी ले जाया गया था जहां सरकार ने सेना के डॉक्टरों के हवाले से कहा था कि उन्हें नर्व एजेंट के जरिये जहर दिया गया है।

यह भी पढ़ें- झारखंड: किसान दिवस के दिन किसानों के लिए तोहफा, कर्ज माफी के लिए 2000 करोड़ का प्रस्ताव मंजूर

Related Articles

Back to top button