किसान अपनी फसलों को सड़कों पर फेंकने को मजबूर, बीजेपी सीएम खट्टर बोले- यह कोई मुद्दा ही नहीं

0

चंडीगढ़। मध्य प्रदेश के अलावा पंजाब व हरियाणा के कई इलाकों में किसान इन दिनों अपने 10 दिवसीय आंदोलन पर हैं। यह आंदोलन बीते साल 6 जून को मंदसौर में किसान आंदोलन के दौरान 6 लोगों के मारे जाने के एक साल पूरे होने पर किया जा रहा है। इसके अलावा किसानों की कर्जमाफी से लेकर उचित फसल लागत मूल्य तक अन्य कई मांगे भी हैं। ऐसे में हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर ने किसानों के इस आंदोलन को खारिज करते हुए कहा है कि यह कोई मुद्दा ही नहीं है।

खट्टर ने दिया बयान, किसान कर रहे हैं अपना ही नुकसान
किसानों के इस व्यापक आंदोलन पर सीएम मनोहर लाल खट्टर ने बयान देते हुए कहा कि किसान बेवजह ही अपना नुकसान कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि किसानों का ऐसा कोई मुद्दा ही नहीं है, वो बेकार की चाज़ों पर अपना ध्यान लगाकर, खुद अपना ही नुकसान कर रहे हैं।

सीएम खट्टर का यह बयान उस वक्त आया है जब किसान अपनी हालत से तंग आकर खुद की कड़ी मेहनत से उगाई हुई सब्जियां व फसल सड़कों पर फेंकने को मजबूर हैं। किसानों ने काफी मात्रा में दूध भी सड़कों पर बहा दिया। इसे उनकी नाराजगी के तौर पर देखा जा रहा है।

इस पर खट्टर का कहना है कि हड़ताल तो कोई मुद्दा ही नहीं है। वो जो दूध और सब्जियां सड़क पर फेंक रहे हैं, बेचने से इनकार कर रहे हैं, इससे उन्हीं का नुकसान होना है। वो बेकार की चीजों में ध्यान लगाकर प्रदर्शन कर रहे हैं। वहीं दूसरी तरफ किसान कर्जमाफी, उत्पाद की बढ़ी कीमत और स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट को लागू करने की मांग लेकर सड़कों पर हैं।

loading...
शेयर करें