National Education policy-2020 को लेकर गठित टास्क फोर्स की पांचवीं बैठक हुई सम्पन्न

लखनऊ: राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 (National Education policy) को शिक्षण संस्थाओं में क्रियान्वयन के लिये उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा (Deputy Chief Minister Dinesh Sharma) की अध्यक्षता में गठित टास्क फोर्स की पांचवीं बैठक सोमवार को आयोजित की गई।

बैठक में उच्च शिक्षा विभाग, माध्यमिक शिक्षा विभाग, प्राविधिक शिक्षा, व्यवसायिक शिक्षा विभाग तथा बेसिक शिक्षा शिक्षा विभाग द्वारा नई शिक्षा नीति के क्रियान्वयन के दिशा में किए गए प्रयासों की कार्ययोजना प्रस्तुत किया गया। बैठक में उत्तर प्रदेश में राष्ट्रीय शिक्षा नीति- 2020 (National Education policy) के क्रियान्वयन किए जाने की दिशा में विभिन्न बिंदुओं पर विचार विमर्श किया गया।

नई शिक्षा नीति को पारदर्शी ढंग से लागू किया जाए

डॉ शर्मा ने कहा कि नई शिक्षा नीति-2020 के प्रदेश में क्रियान्वयन के संबंध में गठित टास्क फोर्स का मूल मंत्र है कि नई शिक्षा नीति निचले स्तर तक किस प्रकार से सही एवं पारदर्शी ढंग से लागू किया जा सके, जिससे इसका लाभ सीधे छात्रों को आगे भविष्य में मिल सके। उन्होंने कहा कि प्रदेश में डिजिटल लाइब्रेरी को प्रारंभ किया गया है। शिक्षा को रोजगार के साथ जोड़ने के लिए लघु उद्योग विभाग एवं अन्य विभागों के साथ एम.ओ.यू. भी किया जा रहा है

टास्क फोर्स की बैठक में विशेष आमंत्रित सदस्य अतुल कोठरी, राष्ट्रीय सचिव शिक्षा संस्कृति उत्थान न्यास, नई दिल्ली ने कहा कि नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 के क्रियान्वयन की दिशा में उत्तर प्रदेश में बहुत ही अच्छा प्रयास किया जा रहा है। विद्यार्थियों को स्नातक स्तर के प्रथम वर्ष में शोध का ज्ञान प्रदान किया जाना चाहिए, उन्हें अपनी भाषा में शोध करने की अनुमति दी जानी चाहिए।

यह भी पढ़ें:

Related Articles