पहले और दूसरे चरण के चुनाव प्रचार से तय होता बिहार विधानसभा का भविष्य

चुनाव प्रचार में सारी पार्टीयों ने एक दूसरे पर वार करते हुए कई मामलों का अपना चुनावी मुद्दा बनाया।

बिहार: बिहार में दूसरे चरण का चुनाव प्रचार विरोधियों पर तीखे वार के साथ खत्म हो गया। दोनो चरणों के चुनाव प्रचार में सारी पार्टीयों ने एक दूसरे पर वार करते हुए कई मामलों का अपना चुनावी मुद्दा बनाया। दोनो चरणों के चुनाव प्रचार के दौरान बिहार के दो सबसे बड़े पार्टी के मुखिया नीतीश कुमार और तेजस्वी यादव ने एक दूसरे पर खूब तंज कसा।दूसरे चरण में 94 सीटों पर चुनाव होने हैं जिस पर कुल 1463 प्रत्याशी चुनाव लड़ रहे, जिनमें 1316 सीटों पर पुरूष, 146 सीटों पर महिला और एक सीट पर थर्ड जेंडर की प्रत्याशी मैदान में है।

पहले और दूसरे चरण के प्रचार में चुनावी मुद्दे

जहां पहले चरण के चुनाव में मोदी सरकार की तरफ से राम मंदिर, धारा 370, आतंकवाद के साथ-साथ नीतीश सरकार की उपलब्धियों को मुद्दा बनाया गया। तो दुसरे चरण में मोदी सरकार ने राष्ट्रवादी मुद्दे जैसे पुलवामा, पाकिस्तान और आरक्षण जैसे मामलों को अपना मुद्दा बनाया। वहीं दूसरी तरफ महागठबंधन ने चुनाव प्रचार में जनता को 10 लाख नौकरी देने और नीतीश सरकार में की गई गलतियों को अपना मुद्दा बनाए रखा।

तंज से महागठबंधन पर वार

नीतीश कुमार ने अपने चुनाव प्रचार में लालू यादव पर निजी निशाना साधते हुए 8-8, 9-9 बच्चों की बात को दोहराया तो तेजस्वी यादव नीतीश कुमार के 15 साल के कार्यकाल पर निशाना साधते रहे। नरेन्द्र मोदी ने अपनी रैली में तेजस्वी और राहुल गांधी के गठबंधन को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि एक तरफ डबल इंजन की सरकार है। तो दुसरी तरफ डबल युवराज की सरकार है जो अपनी अपनी कुर्सी बचाने में लगे हैं।

नेताओं द्वारा की गई रैलियां

अगर पहले चरण के प्रचार की बात करे तो नरेन्द्र मोदी ने तीन रैलियों जबकि दूसरे चरण में 7 रैलियों को संबोधित किया। वहीं नीतीश कुमार ने दूसरे चरण में पहले चरण के मुकाबले चार रैलियां की। अकेले महागठबंधन की कमान संभाले तेजस्वी यादव ने अपने पिता लालू यादव का रिकॉर्ड तोडते हुए दूसरे चरण के चुनाव प्रचार में बीते शनिवार को एक दिन में 17 रैलियां की। पहले चरण के चुनाव प्रचार में तेजस्वी यादव ने 14-16 रैलियां की थी। लालू यादव के नाम एक दिन में 16 रैलियां करने का रिकॉर्ड है। दुसरे चरण में कई नेताओं ने कोरोनो संक्रमण के कारण चुनाव प्रचार नही किया।

रिटायरमेंट पर तेजस्वी यादव का वादा

तेजस्वी यादव ने सरकारी कर्मचारीयों के रिटायरमेंट के मुद्दे को उठाते हुए कहा कि अगर उनकी सरकार सत्ता में आती है तो वो नियम, जिनमें सरकारी पदों पर रहने वाले व्यक्ति जिनको 50 साल में रिटायर कर दिया जाता है, खत्म कर देंगे। उन्होंने नीतीश और मोदी पर तंज कसते हुए कहा कि जिन लोगों ने यह नियम लागू किया है वो खुद 70 वर्ष से अधिक हैं।

राहुल गांधी का मोदी पर निशाना

राहुल गांधी ने कृषि कानून के बहाने मोदी पर टिप्पणी करते हुए बोला कि इस बार पंजाब की जनता ने रावण की जगह प्रधानमंत्री का पुतला जलाया है। राहुल गांधी ने कहा इस वक्त केंद्र में नोटबंदी और तालाबंदी की सरकार है।

यह भी पढ़ें: चिराग का नीतीश पर वार, नीतीश कुआं तो तेजस्वी खाई, लोजपा-भाजपा सरकार बनाई

Related Articles

Back to top button