भारत बंद का असर: कहीं ट्रेन रोकी गईं, तो कहीं हई तोड़फोड़ व आगज़नी, तस्वीरों में देखें देश का हाल

0

नई दिल्ली: पेट्रोल और डीजल की आसमान छूती कीमतों के खिलाफ 10 सितंबर को कांग्रेस ने भारत बंद का ऐलान किया है। इस बंद में ना सिर्फ कांग्रेस बल्कि जनता दल (सेक्युलर) और लेफ्ट पार्टियां समेत कई राजनीतिक दलों ने समर्थन दिया है। बंद का असर सुबह से ही अलग-अलग राज्यों में दिखा। इस दौरान कहीं ट्रेन रोकी गई तो कहीं बसों में तोड़फोड़ की गई।

झारखंड की राजधानी रांची में भी भारत बंद के समर्थन में कांग्रेस समेत विपक्षी दलों ने प्रदर्शन किया। प्रदर्शनकारियों ने मोदी सरकार को पूरी तरह फेल करार दिया। इसके बाद सभी ने गिरफ्तारी दी।

बिहार की राजधानी पटना में सांसद पप्पू यादव की जन अधिकार पार्टी के कार्यकर्ताओं ने भारत बंद के दौरान प्रदर्शन किया, उन्होंने अपने समर्थकों के साथ ट्रेन रोकी।

कर्नाटक के मेंगलुरु में कुछ उपद्रवियों ने एक प्राइवेट बस पर पत्थर फेंके। हालांकि, इस दौरान किसी को चोट नहीं आई है। महाराष्ट्र में राज ठाकरे की महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के कार्यकर्ताओं ने भी पुणे में कई बसों में पत्थरबाजी की। बंद के चलते यहां केएसआरटीसी, बीएमटीसी और ओला, उबर व अन्य प्राइवेट टैक्सी की सेवाएं बंद रहेंगी।

केरल में भी विपक्ष के भारत बंद का असर देखने को मिला। राज्य की बस सर्विस भी पूरी तरह से ठप है। भारत बंद के कारण लोगों को कई तरह की परेशानी का भी सामना करना पड़ रहा है।

गुजरात के भरूच में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने टायरों को आग लगाकर बसों को रोक दिया। इससे आम यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

ओडिशा के भुवनेश्वर में भारत बंद का असर, सड़कों पर विपक्षी पार्टियों का प्रदर्शन, ट्रेन रोकी। बंद के मद्देनजर ओडिशा सरकार ने 10 सितंबर को तमाम स्कूल बंद रखने का निर्देश दिया है, साथ ही तमाम जिलों के डीएम को इस बाबत निर्देश दिए गए हैं कि वह कानून व्यवस्था को दुरुस्त रखें।

तेलंगाना में भी कांग्रेस कार्यकर्ता सड़कों पर उतरे। यदादरी भुवनागिरी , भोंगिर, मुर्शिदाबाद में बसों को रोककर तेल की बढती कीमतों के खिलाफ प्रदर्शन किया। इसके अलावा पश्चिम बंगाल में भी टीएमसी ने बंद का समर्थन किया है।

loading...
शेयर करें