बुलेट बाइक की तेज आवाज अब नहीं फोड़ सकेंगे कान, कोर्ट ने लगाई लगाम

लखनऊ: बुलेट (Bullet) मोटरसाइकिल चलाने वाले अक्सर सड़क पर चल रहे लोगो की कान फोड़ते हुए निकल जाते है, कही अगर हार्ट का कोई मरीज चल रहा हो तो समझो जान चली जाए। इसी को संज्ञान में लेते हुए इलाहाबाद हाईकोर्ट (High court) की लखनऊ बेंच ने साइलेंसर मोडिफाई कराके तेज आवाज में बुलेट (Bullet) समेत देशी-विदेशी बाइकों से कान फोड़ने वाली आवाज पैदा करने व ध्वनि प्रदूषण (noise pollution) फैलाने पर सख्त रुख अपनाया है।

कोर्ट ने इस मुद्दे को ‘मोडिफाइड साइलेंसरों से ध्वनि प्रदूषण’ टाइटिल से जनहित याचिका पर राज्य सरकार से कार्रवाई कर जवाब देने का आदेश दिया है। सरकार के अधिकारियों को ऐसी मोटरसाइकिलें चलाने वालों पर कड़ी कार्रवाई करने का निर्देश दिया है। साथ ही अधिकारियों से हलफनामा मांगते हुए सुनवाई की अगली तारीख 10 अगस्त तय की है। यह आदेश न्यायमूर्ति अब्दुल मोईन की एकल पीठ ने पारित किया।

हाईकोर्ट ने कहा कि बुलेट व दूसरी बाइकों में आजकल साइलेंसर को मोडिफाई करके लोग भौकाल में तेज आवाज निकालते और कभी-कभी जैसे लगता है पिस्टल चल गई हो। इतनी तेज आवाज निकलती है कि सौ मीटर दूर से भी सुनी जा सकती है। इससे बीमार लोगों, बुजुर्गों और बच्चों को खास तौर पर भारी दिक्कतें होती हैं। अपने आदेश में कोर्ट ने मोटर वेहिकल एक्ट की धारा 52 का भी उल्लेख किया है। इसके तहत वाहनों में मोडिफिकेशन प्रतिबंधित है। इसके अलावा धारा 190(2) का भी जिक्र किया है, इसमे ध्वनि व वायु प्रदूषण फैलाने वाले वाहनों कार्रवाई हो सकती है।

न्यायालय ने आदेश की प्रति प्रमुख सचिव परिवहन, प्रमुख सचिव गृह, पुलिस महनिदेशक, चेयरमैन यूपी प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड और डीसीपी (यातायात) लखनऊ को भेजने के आदेश दिए हैं। इसके साथ ही इन सभी से इस मामले में कार्रवाई कर व्यक्तिगत हलफनामा दाखिल करने का आदेश दिया है।

Related Articles