दो ज्योतिर्लिंग को जोड़ने वाली महाकाल एक्सप्रेस में बजती है ॐ नमः शिवाय की धुन

0

वाराणसी से इंदौर के बीच चलने वाली आईआरसीटीसी की कॉरपोरेट ट्रेन काशी महाकाल एक्सप्रेस पहली बार कानपुर सेंट्रल स्टेशन पर आई। इस ट्रेन में ओम नम: शिवाय मंत्र की धुन बज रही थी। इस ट्रेन के कोच बी-5 में भगवान शिव का छोटा सा मंदिर भी बनाया गया यहां पर पूजा-अर्चना के बाद नारियल फोड़कर इसका स्वागत किया गया।

यह ट्रेन रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वाराणसी कैंट स्टेशन पर हरी झंडी दिखाकर इसकी शुरुआत की। भगवान शिव के तीन ज्योतिर्लिंगों ओंकारेश्वर, महाकालेश्वर और काशी विश्वनाथ को जोड़ने वाली काशी महाकाल एक्सप्रेस सप्ताह में दो दिन वाराणसी से इंदौर के बीच चलेगी। महाकाल एक्सप्रेस में 12 कोच हैं। इसका टिकट ऑनलाइन होगा साथ ही इसमें सर्विस देने वाले कर्मियों का ड्रेस केसरिया होगा।

इस ट्रेन में एसी-3 श्रेणी के सभी कोच में हर समय ऊं नम: शिवाय मंत्र बजता रहता है। इस मंत्र समेत भगवान शिव के अन्य भजनों की धुन भी बजती रहती है।  इसमें बैठने पर एहसास होगा कि यह ट्रेन काशी विश्वनाथ से महाकालेश्वर के दर्शन कराने जा रही है। इस ट्रेन में भजन कीर्तन वाली टोली भी शामिल होगी।

उत्तर रेलवे के अनुसार काशी महाकाल एक्सप्रेस के कोच संख्या बी 5 की सीट संख्या 64 भगवान के लिए खाली की गई है। रेलवे के अनुसार ऐसा पहली बार हुआ है जब एक सीट भगवान शिव के लिए आरक्षित और खाली रखी गई है। सीट पर एक मंदिर भी बनाया गया है ताकि लोग इस बात से अवगत हों कि यह सीट मध्य प्रदेश के उज्जैन के महाकाल के लिए है।

इस ट्रेन में निगरानी के लिए कोच अटेंडेंट की सीट के ऊपर एलसीडी डिस्प्ले लगा है। इसके माध्यम से अटेंडेंट सभी गतिविधियों की निगरानी करेगा। दिक्कत होने पर बिना बुलाए फौरन पहुंच भी जाएगा। इसमें जीआरपी-आरपीएफ नहीं चलेगी। टीटीई भी तेजस की तरह आईआरसीटीसी के होंगे। इस ट्रेन में साइड लोवर सीट को मोड़ने के बजाय किनारे स्लाइडिंग से नीचे किया जा सकता है।

महाकाल एक्सप्रेस में अगले स्टेशन के बारे में बताने के लिए गेट के ऊपर डिस्प्ले लगे है। अन्य मामलों में इसके कोच किसी आम एक्सप्रेस ट्रेन के एसी-3 कोच की तरह हैं। तेजस एक्सप्रेस और वंदे भारत एक्सप्रेस ज्यादा हाईटेक हैं।

इस ट्रेन में कुछ और भी है खास जानिए……
यात्रियों को आईआरसीटीसी की ओर से सुगम दर्शन बनाने के लिए अलग-अलग पैकेज।
आईआरसीटीसी की वेबसाइट और मोबाइल एप से आनलाइन पैकेज बुक किए जा सकते हैं।
ट्रेन के सभी कोच एसी हैं और इसमें सीसीटीवी कैमरे भी लगे हैं।
हर यात्री का यात्रा के दौरान 10 लाख रुपये का यात्रा बीमा होगा।
120 दिन पहले अग्रिम आरक्षण की यात्रियों को मिलेगी सुविधा।
ट्रेन के प्रस्थान होने के समय से पांच मिनट पहले तक वर्तमान बुकिंग।
यात्रा से जुड़ी हर जानकारी भी यात्रियों को समय-समय पर मोबाइल पर दी जाएंगी।

loading...
शेयर करें