देश की राजधानी दिल्ली को इन पांच कवच लेयर से रखा जाएगा सुरक्षित

0

दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र को सुरक्षित रखने के लिए विशेष कवच बनाए जाने की तैयारी है. ये कवच पांच लेयर का होगा. पांचों लेयर की सुरक्षा तैनात करने के बाद दिल्ली के चारों तरफ अभेद्य किला बन जाएगा. यह विश्व की सबसे बेहतरीन सुरक्षा प्रणालियों में से एक होगी. इसकी तैनाती को बाद दिल्ली किसी भी तरह के हवाई हमलों से सुरक्षित रहेगा. चाहे हमला मिसाइल से हो, ड्रोन से हो या फाइटर जेट से.

 

भारत लगातार ऐसी सुरक्षा प्रणाली के लिए अमेरिका, रूस और इजरायल से डील कर रहा है. माना जा रहा है कि अभी भारत अमेरिका से नेशनल एडवांस्ड सरफेस टू एयर मिसाइल सिस्टम-2 (NASAMS-2) लाने की तैयारी में है. अगर ये सिस्टम देश में आता है तो दिल्ली को हवाई हमलों से बचाया जा सकेगा. यानी अमेरिका के वर्ल्ड ट्रेड सेंटर जैसा हादसा यहां नामुमकिन हो जाएगा.

दिल्ली के लिए प्रस्तावित पांच स्तर की मिसाइल सुरक्षा

1. बाहरी सुरक्षा पृथ्वी मिसाइल के हाथ में

2 स्तर की सुरक्षा व्यवस्था – पहली एडवांस्ड एयर डिफेंस (एएडी) और पृथ्वी एयर डिफेंस इंटरसेप्टर (पीएडी) मिसाइल तैनात होंगे. दोनों मिलकर 15 से 25 और 80 से 100 किमी की दूरी तक आसमान से आने वाली मिसाइलों के नष्ट कर देंगे. 2000 किमी रेंज से आने वाली मिसाइलों को गिराने के लिए 5556 किमी प्रतिघंटा की गति से हमला करने वाली मिसाइलों का सिस्टम भी तैयार है. भविष्य में 5000 किमी रेंज से आने वाली मिसाइलों को ध्वस्त करने के लिए 8643 किमी प्रतिघंटा की गति से हमला करने वाली मिसाइलों का सिस्टम बन रहा है.

2. रूस से मंगाई गई एस-400 मिसाइस सिस्टम

भारत ने रूस से ट्रिम्फ सरफेस टू एयर (सैम) मिसाइल सिस्टम की 40 हजार करोड़ की डील अक्टूबर 2018 में की है. इस मिसाइल सिस्टम की रेंज 120, 200, 250 और 380 किमी है. इनकी डिलीवरी अक्टूबर 2020 से अप्रैल 2023 के बीच होगी. एस-400 सिस्टम 380 किमी की सीमा में बम, जेट्स, जासूसी विमान, मिसाइल और ड्रोन का पता लगाने और उन्हें नष्ट करने में सक्षम है.

भारत लगातार ऐसी सुरक्षा प्रणाली के लिए अमेरिका, रूस और इजरायल से डील कर रहा है. माना जा रहा है कि अभी भारत अमेरिका से नेशनल एडवांस्ड सरफेस टू एयर मिसाइल सिस्टम-2 (NASAMS-2) लाने की तैयारी में है. अगर ये सिस्टम देश में आता है तो दिल्ली को हवाई हमलों से बचाया जा सकेगा. यानी अमेरिका के वर्ल्ड ट्रेड सेंटर जैसा हादसा यहां नामुमकिन हो जाएगा.

दिल्ली के लिए प्रस्तावित पांच स्तर की मिसाइल सुरक्षा

1. बाहरी सुरक्षा पृथ्वी मिसाइल के हाथ में

2 स्तर की सुरक्षा व्यवस्था – पहली एडवांस्ड एयर डिफेंस (एएडी) और पृथ्वी एयर डिफेंस इंटरसेप्टर (पीएडी) मिसाइल तैनात होंगे. दोनों मिलकर 15 से 25 और 80 से 100 किमी की दूरी तक आसमान से आने वाली मिसाइलों के नष्ट कर देंगे. 2000 किमी रेंज से आने वाली मिसाइलों को गिराने के लिए 5556 किमी प्रतिघंटा की गति से हमला करने वाली मिसाइलों का सिस्टम भी तैयार है. भविष्य में 5000 किमी रेंज से आने वाली मिसाइलों को ध्वस्त करने के लिए 8643 किमी प्रतिघंटा की गति से हमला करने वाली मिसाइलों का सिस्टम बन रहा है.

2. रूस से मंगाई गई एस-400 मिसाइस सिस्टम

भारत ने रूस से ट्रिम्फ सरफेस टू एयर (सैम) मिसाइल सिस्टम की 40 हजार करोड़ की डील अक्टूबर 2018 में की है. इस मिसाइल सिस्टम की रेंज 120, 200, 250 और 380 किमी है. इनकी डिलीवरी अक्टूबर 2020 से अप्रैल 2023 के बीच होगी. एस-400 सिस्टम 380 किमी की सीमा में बम, जेट्स, जासूसी विमान, मिसाइल और ड्रोन का पता लगाने और उन्हें नष्ट करने में सक्षम है.

क्या है NASAMS-2 समझौता?

उम्मीद जताई जा रही है कि अमेरिका NASAMS-2 की बिक्री के लिए अंतिम मसौदा जुलाई या अगस्त में भारत भेजेगा. दिल्ली में मिसाइलें कहां तैनात होंगी, इसका भी खाका खींचा जा चुका है. सौदा होने के बाद 2 से 4 साल में NASAMS-2 सिस्टम की डिलीवरी हो जाएगी.

loading...
शेयर करें

Warning: mysqli_query(): (HY000/3): Error writing file '/tmp/MYPsJF4y' (Errcode: 28 - No space left on device) in /home/purid6/public_html/wp-includes/wp-db.php on line 1924

WordPress database error: [Error writing file '/tmp/MYPsJF4y' (Errcode: 28 - No space left on device)]
SELECT SQL_CALC_FOUND_ROWS wp_posts.ID FROM wp_posts LEFT JOIN wp_term_relationships ON (wp_posts.ID = wp_term_relationships.object_id) WHERE 1=1 AND wp_posts.ID NOT IN (429081) AND ( wp_term_relationships.term_taxonomy_id IN (20,145421) ) AND wp_posts.post_type = 'post' AND ((wp_posts.post_status = 'publish')) GROUP BY wp_posts.ID ORDER BY wp_posts.post_date DESC LIMIT 0, 3