शाहीन बाग में गोली चलाने वाले को सुबह मिली BJP में एंट्री, शाम तक किया बाहर

गाजियाबाद: भारतीय जनता पार्टी (BJP) गाजियाबाद (Ghaziabad) महानगर इकाई उस समय विवादों के घेरे में आ गई जब उसने शाहीन बाग मामले में गोलीकांड के आरोपी कपिल गुर्जर को सदस्यता देकर पार्टी में शामिल कर लिया लेकिन शाम होने तक पार्टी के प्रदेश हाईकमान के निर्देश पर नवागंतुक को पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया। आम आदमी पार्टी (आप) ने इसको लेकर भाजपा पर जमकर हमला बोला है।
भाजपा (BJP) के गाजियाबाद महानगर अध्यक्ष संजीव शर्मा ने आज सुबह एक सादे कार्यक्रम के दौरान शाहीन बाग आंदोलन के दौरान गोली चलाने वाले आरोपी कपिल गुर्जर को पार्टी की सदस्यता देकर भाजपा ((BJP) में शामिल कर लिया। दिन निकलने के साथ ही यह खबर मीडिया की सुर्खियों में आ गई। इसके बाद महानगर अध्यक्ष के इस निर्णय को लेकर विपक्षी दलों के गलियारों में तीखी आलोचनाएं होने लगी।
इस बात की जानकारी मिलते हैं प्रदेश हाईकमान ने मामले को गंभीरता से लिया जिसके बाद शाम होते होते कपिल गुर्जर की पार्टी में शामिल किए जाने की सदस्यता को रद्द करने की सूचना जारी कर दी गई। इस मामले में महानगर अध्यक्ष की तरफ से जारी किए गए बयान में कहा गया कि उन्हें इस बात की जानकारी नहीं थी कि यह वही कपिल गुर्जर है जो शाहीन बाग मामले में आरोपी है।

‘शाहीन बाग के मुद्दे पर भाजपा ने चुनाव लड़ा था’

इसबीच कपिल को भाजपा (BJP) में शामिल किए जाने पर आप के प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने कहा कि दिल्ली में चुनाव के दौरान सिर्फ शाहीन बाग के मुद्दे पर भाजपा ने चुनाव लड़ा था। शाहीन बाग के प्रदर्शन को भाजपा के लोगों ने कंट्रोल किया। दिल्ली चुनाव से कुछ दिन पहले कपिल गुर्जर पिस्तौल के साथ शाहीन बाग पहुंचा था। शाहीन बाग के प्रदर्शन को कंट्रोल करने वाले बड़े नेता पहले ही भाजपा में शामिल हो चुके हैं। आज भाजपा में कपिल गुर्जर को भी प्रवेश मिल गया।

भाजपा फैला रही नफरत: सौरभ भारद्वाज

पहले शामिल किए जाने और फिर रद्द किए जाने पर भारद्वाज ने हमला करते हुए कहा कि भाजपा ने उसे सदस्यता क्यों दी? अब सदस्यता वापस क्यों ली? ये देश और दिल्ली को समझने की जरूरत है। भाजपा नफरत फैलाती है। हिंसा में करोड़ों की प्रॉपर्टी नष्ट हो गई, कई लोग मारे गए। अनुराग ठाकुर हो या कपिल मिश्रा या कपिल गुर्जर सब भाजपा के ही निकले। चुनाव में भाजपा की स्क्रिप्ट काम कर रही थी ये स्पष्ट हो गया है।

यह भी पढ़े:

Related Articles

Back to top button