IPL
IPL

5 दशक पहले बनी Bhaskar और Anand की जोड़ी आज भी है लोगों के लिए मिसाल

फिल्म 'आनंद' भारतीय सिनेमा को उन बेहद चंद फिल्मों में शुमार किया जाता है जिसने उस दौर में box office पर खूब धमाल मचाई थी। बता दें कि आज यह फिल्म अपनी रिलीज़ के 50 साल पूरे कर रही है।

नई दिल्ली : सिनेमा को अक्सर समाज का आईना कहा जाता है। ऐसा इसलिए क्योंकि जो कहानियां फिल्मों में दिखाई जाती हैं वह कहीं न कहीं असल ज़िन्दगी से ही प्रेरित होती हैं। फिल्मों को लोगों तक सन्देश पहुंचाने का एक नायाब तरीका माना जाता है। हिंदी सिनेमा के इतिहास में कई ऐसी फिल्में बनी हैं जिन्होंने समाज में कई तरह के संदेश दिए हैं। इसी फेहरिस्त में एक नाम लोकप्रिय फिल्म ‘Anand’ का भी है। फिल्म ‘Anand’ भारतीय सिनेमा को उन बेहद चंद फिल्मों में शुमार किया जाता है जिसने उस दौर में box office पर खूब धमाल मचाई थी। बता दें कि आज यह फिल्म अपनी रिलीज़ के 50 साल पूरे कर रही है।

2 करोड़ रुपये का किया था बिजनेस

यह फिल्म 12 मार्च 1971 को सिनेमाघरों में रिलीज़ हुई थी। फिल्म ‘Anand’ भारतीय सिनेमा की उन बेहद चंद फिल्मों में से एक है जिसने उस दौर में ताबड़तोड़ कमाई कर करीब 2 करोड़ रुपये का बिजनेस किया था। जो अपने आप में किसी फिल्म की रिकॉर्डतोड़ कामयाबी थी।

90 के दशक तक लोग खरीदा करते थे ऑडियो कैसेट

यह फिल्म मशहूर फ़िल्मकार Rishikesh Mukherjee के निर्देशन में बनी थी। फिल्म के गानों के ऑडियो कैसेट के साथ-साथ डॉयलाग के कैसेट भी खूब बिके। एक से बढ़कर एक डॉयलाग को सुनने के लिए 90 के दशक में भी लोग ऑडियो कैसेट खरीदा करते थे। आज हम आपको इस फिल्म से जुड़ी कुछ रोचक जानकारियां देंगे।

पहली पसंद नहीं थे राजेश खन्ना

फिल्म आनंद को Rajesh Khanna के उम्दा अभिनय के लिए भी जाना जाता है। राजेश खन्ना को कई अन्य सुपरहिट फिल्मों में देखा जा चूका है। उन्होंने हर फिल्म में अपनी एक्टिंग का लोहा मनवाया है। लेकिन बता दें कि Rajesh Khanna इस फिल्म के लिए पहली पसंद नहीं थे। कहा जाता है कि Rishikesh Mukherjee पहले इस फिल्म के लीड एक्टर के लिए Kishore Kumar को लेना चाहते थे, लेकिन किशोर कुमार के गेटकीपर की गलती की वजह से वो इतने आहत हुए कि उन्होंने अपना फैसला बदल दया।

फिर लीड रोल के लिए Mehmood से संपर्क किया गया लेकिन यहां भी बात नहीं बनी। ऋृषिकेश दा ने Raj Kapoor और and Shashi Kapoor को भी फिल्म के लिए ऑफर किया लेकिन उन दोनों ने भी अपनी कुछ परेशानियों के चलते फिल्म करने से मना कर दिया। इसके बाद Rajesh Khanna को लीड रोल के लिए चुना गया, जिन्होंने अपने शानदार अभिनय से फिल्म और किरदार को अमर कर दिया।

यह भी पढ़ें :

राज कपूर के लिए लिखी गई कहानी

फिल्म के लीड एक्टर राजेश खन्ना यानी Anand Sehgal फिल्म में अपने प्रिय दोस्त डॉक्टर Bhaskar Banerjee (Amitabh Bachchan) को बाबू मोशाय कहकर संबोधित किया करते थे। कहा जाता है कि यह शब्द Raj Kapoor ने दिया था। राजकपूर ऋषिकेश दा को बाबू मोशाय कहकर पुकारते थे। ऋषिकेश दा ने राजकपूर को लेकर उस समय फिल्म आनंद लिखी थी, जब वह गंभीर रूप से बीमार थे और उनके बचने की उम्मीद बहुत कम बताई जा रही थी।

फिल्म ‘Anand’ के बारे में

बात अब फिल्म ‘Anand’ की करते हैं, फिल्म अपनी भावपूर्ण कहानी और राजेश खन्ना और अमिताभ बच्चन के बेमिसाल अभिनय के के लिए खूब पसंद की गई। इसके अलावा फिल्म ‘Anand’ अपने बेहतरीन डायलॉग के लिए भी जानी जाती है। राजेश खन्ना जहां आनंद के किरदार में थे तो वहीं अमिताभ बच्चन डॉक्टर भास्कर बनर्जी की भूमिका निभा रहे थे। आनंद डॉक्टर भास्कर बनर्जी को बाबू मोशाय कह कर पुकारते थे। फिल्म में राजेश खन्ना ने एक खुशमिजाज कैंसर मरीज का रोल निभाया था तो इस मरीज के दोस्त और डॉक्टर भास्कर के रोल में अमिताभ बच्चन थे।

फिल्म के कुछ लोकप्रिय डायलॉग्स

फिल्म को उम्दा अभिनय के अलावा अगर सबसे ज्यादा याद किया जाता है तो इसके दमदार डॉयलॉग्स के लिए। मुगले-आजम और शोले की तरह इस फिल्म के डायलॉग्स भी आजतक लोगों की जुबान पर हैं। फिल्म के संवाद गीतकार गुलजार ने लिखे थे। इस फिल्म के ऐसे ही कुछ डायलॉग्स यहां मौजूद हैं।

  • ‘मैंने तेरे लिए’ और ‘ना जिया लागे ना’ लिखे.
  • ‘बाबू मोशाय, जिंदगी और मौत ऊपरवाले के हाथ है, जहांपनाह उससे न तो आप बदल सकते हैं न मैं, हम सब तो रंगमंच की कठपुतलियां हैं जिनकी डोर ऊपरवाले की अंगुलियों में बंधी हैं, कब, कौन, कैसे उठेगा यह कोई नहीं बता सकता है।’
  • ‘बाबू मोशाय जिंदगी बड़ी होनी चाहिए लंबी नहीं.’
  • ‘मौत तो एक पल है…’
  • ‘यह भी तो नहीं कह सकता कि मेरी उम्र तुझे लग जाए !’

 

Related Articles

Back to top button