पुलिस का एक बार फिर दिखा क्रूर चेहरा, रक्षक कहलाने वाले बने भक्षक

लखनऊ। आप सभी उत्तर प्रदेश पुलिस के कारनामों से भली भांति वाकिफ होंगे। इसी कारनामे की क्रमबद्ध श्रिंखला को आगे बढ़ाते हुए यूपी पुलिस ने एक और कारनामे को अंजाम दिया है। ताजा मामला राजधानी के इंदिरानगर पुलिस थाने का है।

lucknow बिना किसी कारण के पुलिस अन्नू गुप्ता नामक युवक को जीप में बैठाती है और उसकी पिटाई करती है जब युवक बेहोश हो जाता है तो उसे आनन-फानन में लोहिया अस्पताल में भर्ती कराया जाता है। लेकिन युवक की स्थिति को देखते हुए लोहिया अस्पताल के डॉक्टर युवक को मेडिकल कॉलेज के लिए रिफर कर देते हैं। जहाँ कई जांच के बाद युवक को डिसचार्ज किया जाता है।

अब पुलिस कस्टडी में बेहोश हुए युवक की बाते सुनकर आप भी हैरान रह जाएंगे कि यह वही पुलिस है जिनसे हम मदद और इंसाफ की उम्मीद करते हैं। इस पूरे मामले पर अभी कोई भी अधिकारी कुछ भी बोलने को तैयार नही है क्योंकि गलती उनके विभाग की है। अब देखना यह है कि इस मामले में जिला अधिकारी कोई कार्रवाई करते हैं या पूर्व में हुए मामलों की तरह इस मामले को भी जांच के नाम पर ठंडे बस्ते में डाल देते है।

लखनऊ में पुलिस की बर्बरता का पहला मामला नही है इससे पहले भी पीजीआई, हज़रतगंज और बाजारखाला के मामले सामने आ चुके है। लेकिन बीती रात हुई घटना से लखनऊ पुलिस के हाथ पांव फूले हुए है।

Related Articles