प्रशासन की हठधर्मिता के आगे हार गईं आगरा की रानी, सड़क और नाला निर्माण को चल रहा था धरना

नाले के लिए भूख हड़ताल पर बैठी सवित्री चाहर ने मौत के लिए प्रशासन को जिम्मेदार ठहराया है

आगरा में सड़क और नाला निर्माण की मांग को लेकर धरने पर बैठीं रानी प्रशासन की हठधर्मिता के आगे हार गईं. मलपुरा में लंबे समय से सड़क और नाला निर्माण की मांग को लेकर चल रहे धरने में उनकी की मौत हो गई. महिला की मौत के बाद क्षेत्रीय लोगों में उबाल है. वहीं धरने पर बैठी एक अन्य महिला की तबियत बिगड़ गई है. उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

धरना स्थल पर ही सोई थीं महिला रानी

नाले के लिए भूख हड़ताल पर बैठी सवित्री चाहर ने मौत के लिए प्रशासन को जिम्मेदार ठहराया है. वहीं, पुलिस का कहना है कि महिला की मौत अपने घर पर हुई है. मलपुरा के गांव धनौली में पिछले 13 अक्टूबर से ग्रामीण विकास कार्य और नाला निर्माण की मांग को लेकर धरने पर बैठे हैं. ग्रामीण कई बार जिला मुख्यालय पर प्रदर्शन भी कर चुके हैं. बताया गया कि शनिवार रात को गांव की रहने वाली महिला रानी धरना स्थल पर ही सोई थीं. सुबह लोगों ने उन्हें उठाया तो वो उठी नहीं. इससे लोगों में हड़कंप मच गया.

आरसीसी रोड शुरू, नाला नहीं बना

81 दिन से चल रहे धरने के बाद प्रशासन ने कुछ दिनों पहले आरसीसी रोड का निर्माण शुरू करा दिया था, लेकिन ग्रामीण नाला निर्माण न होने तक धरना खत्म न करने की बात कह रहे थे. इसको लेकर ही महिलाएं धरने पर बैठी थीं. महिला की मौत के बाद प्रशासन के हाथ-पांव फूल गए हैं.

 

यह भी पढ़ें- नए साल पर बसपा को एक और बड़ा झटका, इस ब्राह्मण नेता ने थामा सपा का दामन

(Puridunia हिन्दी, अंग्रेज़ी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब  पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)…

Related Articles