IPL
IPL

दुष्कर्म पीड़िता को नहीं मिला न्याय, आयोग ने अफसरों को भेजा नोटिस

भोपाल: मध्यप्रदेश के उमरिया (Umaria) शहर में 13 साल की एक नाबालिग किशोरी के साथ कथित रूप से हुए सामूहिक दुष्कर्म के मामले को राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (National Human Rights Commission) ने संज्ञान में लिया। मानवाधिकार आयोग (Human rights commission) ने इस पूरे घटनाक्रम की राज्य के मुख्य सचिव और पुलिस महानिदेशक को नोटिस जारी कर रिपोर्ट तलब की है।

उमरिया जिले की किशोरी के साथ लगातार कई दिनों तक दुष्कर्म होता रहा। उसे पहले दो युवकों ने अपनी हवस का शिकार बनाया, ढाबे में कैद रखा और फिर साथियों को सौंप दिया। इतना ही नहीं, किशोरी ने जिस ट्रक वाले से मदद की गुहार लगाई, उसने भी उसके साथ दरिंदगी करने में हिचक नहीं दिखाई।

ये भी पढ़ें : Premier League: मैनचेस्टर सिटी शानदार Goals से क्रिस्टल को पछाड़ा

आयोग ने मीडिया में आईं खबरों के आधार पर कहा है कि यह वीभत्स घटना है जो क्षेत्र की कानून और व्यवस्था की स्थिति पर सवालिया निशान लगाती है। इस मामले में अपराधियों ने पीड़िता के मानवाधिकारों का उल्लंघन करने वाले कानून का कोई डर न रखते हुए दो बार जघन्य अपराध किया।

ये भी पढ़ें : 100 मिलियन यूज़र्स का ये App क्यों हुआ बंद, जाने वजह

आयोग ने कहा है कि यह पीड़ित के मानवाधिकारों के उल्लंघन का मामला है और इससे यह स्पष्ट होता है कि नागरिकों को एक सुरक्षित वातावरण प्रदान करने वाली एजेंसियां अपने वैध कर्तव्य का पालन करने में विफल रही हैं। आयोग ने 4 सप्ताह के भीतर मामले में एक विस्तृत रिपोर्ट मांगी है। रिपोर्ट में राज्य के मुख्य सचिव व पुलिस महानिदेशक को आरोपियों की गिरफ्तारी, पीड़ित को दिए गए परामर्श के साथ-साथ राहत और पुनर्वास प्रदान करने का ब्यौरा भी देना होगा।

Related Articles

Back to top button