बिहार में काग्रेंस बनी महागठबंधन के हार की वजह, तारिक अनवर बोले ‘सच स्वीकारना गलत नही’

कांग्रेस के महासचिव तारिक अनवर ने गुरूवार सुबह ट्वीट कर कहा कि कांग्रेस को इस विषय पर आत्मचिंतन करना चाहिए कि बिहार में उनके हार की क्या वजह है।

पटना: बिहार विधानसभा चुनाव में जहां पर एनडीए ने पूर्ण बहुमत हांसिल किया तो वही तेजस्वी यादव के इतने चुनाव प्रचार करने के बाद भी महागठबंधन बहुमत का आकंड़ा छुने से चुक गई।

महागठबंधन को चुनाव में मिली इस शिकस्त के बाद हार का जिम्मेदार कांग्रेस पार्टी को ठहराया जा रहा है। कांग्रेस पार्टी के एक नेता ने यह खुद स्वीकार किया है कि बिहार में महागठबंधन की हार की वजह कांग्रेस का खराब प्रदर्शन रहा है।

कांग्रेस के कारण बिहार में नही बनी महागठबंधन की सरकार

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता तारिक अनवर ने अपने ट्वीटर अकाउंट पर यह बात लिखी कि हमें सच को स्वीकार करना चाहिए। बिहार में कांग्रेस के कमजोर प्रदर्शन के कारण ही हम चुनाव नहीं जीत पाए। कांग्रेस की गलतियों की वजह से ही बिहार में गठबंधन की सरकार नहीं पाई।

ओवैसी की बिहार में एंट्री शुभ संकेत नहीं

कांग्रेस के महासचिव तारिक अनवर ने गुरूवार सुबह ट्वीट कर कहा कि कांग्रेस को इस विषय पर आत्मचिंतन करना चाहिए कि बिहार में उनके हार की क्या वजह है। अपनी बात में तारिक अनवर ने कहा कि बिहार में एआईएमआईएम का आना कांग्रेस के लिए शुभ संकेत नही है। तारिक अनवर मूल रूप से बिहार से ही आते हैं।

नीतीश कुमार अन्तिम बार ले रहे मुख्यमंत्री पद की शपथ

तारिक ने अपनी बात में नीतीश कुमार को भी शामिल करते हुए कहा कि नीतीश कुमार इस बार बिहार के मुख्यमंत्री बन रहे अगर भाजपा की मेहरबानी रही तो नीतीश कुमार इस बार मुख्यमंत्री पद की अन्तिम बार शपथ लेंगे। आखिरकार ‘बकरे की मां कब तक खैर मनाएगी’।

तारिक अनवर ने बिहार में असद्दुदीन ओवैसी की पार्टी को मिली जीत का भी जिक्र किया। उनके मुताबिक बिहार में ओवैसी की ताकत को कम आंकना बड़ी गलती थी। गठबंधन को जनादेश का सम्मान करते हुए विपक्ष में बैठना चाहिए। हमें ओवैसी के पार्टी का समर्थन नहीं लेना चाहिए।

राजद विधायक ने भी कहा कांग्रेस बनी महागठबंधन की हार की वजह

वहीं दूसरी ओर राजद पार्टी से विधायक अख्तरूलम इमाम ने भी कहा कि सबको पता है हम बिहार में चुनाव किन कारणों से नहीं जीत पाए। राष्ट्रीय पार्टी होने के नाते यदि पार्टी अच्छा प्रदर्शन करती तो शायद आज नतीजे कुछ और होते।

गौरतलब है कि बिहार विधानसभा कि 243 सीटों में से कांग्रेस ने केवल 19 सीटों पर ही जीत दर्ज की है। जबकि तेजस्वी यादव की पार्टी राजद ने 74 सीटों पर कब्जा किया। बिहार में कांग्रेस का वोट प्रतिशत 10 फीसदी कम हुआ और जीत प्रतिशत में भी 30 फीसदी की कमी हुई।

ये भी पढ़ें : फास्टट्रैक कोर्ट में होगी निकिता हत्याकांड की सुनवाई, बल्लभगढ़ जिला अदालत ने दिया आदेश

Related Articles

Back to top button