लखनऊ : सैनिटाइजर के ड्रमों में धमाका, 12 घंटे तक चलती रही मशक्कत

गोदाम में लगी आग को देखकर आस-पास के लोगों ने दमकल बुलाया। सूचना पर पहुंची दमकल गाड़ियों ने गोदाम में फंसे लोगों को निकाला। दमकल कर्मियों ने गोदाम में फंसे लोगों को बाहर निकालने के लिए जेसीबी से दीवारें तोड़ी और फिर राहत कार्य शुरू किया।

लखनऊ: यूपी के लखनऊ में स्थित ट्रांसपोर्टनगर स्थित शीतल फार्मा में सोमवार देर रात सैनिटाइजर गोदाम में आग लग गई। जिस इमारत में आग लगी उसमें सैनिटाइजर के साथ-साथ दवाई और नमकीन का भी गोदाम है।

गोदाम में लगी आग को देखकर आस-पास के लोगों ने दमकल बुलाया। सूचना पर पहुंची दमकल गाड़ियों ने गोदाम में फंसे लोगों को निकाला। दमकल कर्मियों ने गोदाम में फंसे लोगों को बाहर निकालने के लिए जेसीबी से दीवारें तोड़ी और फिर राहत कार्य शुरू किया।बता दें कि जिस इमारत में आग लगी उसके मालिक कृष्णानगर निवासी बद्री प्रसाद अग्रवाल है। बद्री दवा और नमकीन का व्यापार करते हैं। ट्रांसपोर्टनगर में बद्री का गोदाम और ऑफिस है जहां वो सैनिटाइजर, दवाइयां और नमकीन का स्टॉक रखते हैं।

वहीं गोदाम में मौजूद कर्मचारी ने बताया कि रात 12 बजे करीब गोदाम से धुंआ और आग की लपटें निकल रही थीं। वहीं गोदाम में मौजूद सैनिटाइजर से आग की लपटें और भी ज्यादा तेज हो गईं। आग की लपटों को देखते हुए कर्मचारी ने इसकी सूचना पुलिस को दी। जिसके बाद सोमवार की दोपहर तक जाकर आग पर पूरी तरह से काबू पाया गया।  वहीं इस दौरान काफी सारे कर्मचारी दुकान के अंदर ही फंसे रह गए।

यह भी पढ़ें: IND vs ENG: टेस्ट सीरीज से पहले टीम इंडिया के लिए बड़ी खुशखबरी, फिट हुआ ये धाकड़ खिलाड़ी

इसके बाद सरोजनीनगर फायर स्टेशन से एफएसओ शिवराम यादव टीम के साथ पहुंचे और मुख्य गेट खोलकर आनन फानन कर्मचारियों को टीम की मदद से बाहर निकाला। गोदाम कर्मियों के बाहर निकलते ही सैनिटाइजर के ड्रमों में धमाका होने लगा। जिससे अफरा-तफरी मच गई। सूचना पर आलमबाग, पीजीआइ और हजरतगंज समेत अन्य फायर स्टेशनों से दमकल की गाड़िया बुलाई गईं। जिसके बाद करीब 12 घंटे के बाद आग पर काबू पाया गया।

यह भी पढ़ें: UP पुलिस की शर्मनाक हरकत, बच्ची को ढूंढने के लिए उसकी मां से करवाया ऐसा काम…

Related Articles

Back to top button