श्रीलंका के धमाके न्यूजीलैंड के नरसंहार के धमाके का बदला थे

बदला लेने के लिए किया गया था ब्लास्ट

श्रीलंका के उप रक्षा मंत्री रुवान विजेवार्देने ने देश की संसद को बताया है कि न्यूजीलैंड की मस्जिद में की गई गोलीबारी का बदला लेने के लिए श्रीलंका में सीरियल ब्लास्ट किए गए. उन्होंने शुरुआती जांच के आधार पर ये खुलासा किया है. ईस्टर के मौके पर श्रीलंका में हुए आठ धमाकों में करीब 320 लोगों की मौत हो चुकी है. इनमें तीन चर्च को निशाना बनाया गया था. वहीं, न्यूजीलैंड के क्राइस्ट चर्च की दो मस्जिदों में हुई गोलीबारी में करीब 50 लोगों की मौत हो गई थी|

रुवान विजेवार्देने मीटिंग के दौरान करी बात

रुवान विजेवार्देने ने नेशनल बॉडी की एक मीटिंग में मंगलवार दोपहर को बताया- ‘ये अटैक क्राइस्टचर्च (न्यूजीलैंड) में मुस्लिमों के ऊपर किए गए हमले का बदला लेने के लिए किए गए.’ उप रक्षा मंत्री ने संसद को ये भी बताया कि मृतकों की संख्या 321 हो गई है.

किसी भी समूह नें नहीं ली जिम्मेदारी

घटना के बाद किसी समूह ने हमलों की जिम्मेदारी नहीं ली. राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरिसेना ने घोषणा की कि वे दूसरे देशों से सहयोग चाहते हैं ‘क्योंकि खुफिया रिपोर्ट ने स्थानीय आतंकवादियों के साथ ही विदेशी आतंकवादियों के शामिल होने की बात कही है.’ इससे पहले सरकार का कहना था कि इस हमले को श्रीलंकाई मुस्लिम ग्रुप नेशनल तौहीद जमात (एनटीजे) ने अंजाम दिया है|

स्वाथ्य मंत्री सी करी गयी बात

स्वास्थ्य मंत्री राजिथा सेनारत्ने ने मीडिया से कहा, ‘एनटीजे इसमें शामिल है. यह एक स्थानीय संगठन है| अभी हमें पता नहीं है कि क्या वे बाहरी लोगों से मिले हुए हैं| गिरफ्तार किए गए सभी लोग स्थानीय हैं| लेकिन, बिना किसी अंतर्राष्ट्रीय नेटवर्क के इस तरह के हमले को अंजाम नहीं दिया जा सकता| और सेनारत्ने ने कहा कि यह सुनियोजित हमले ‘पूर्णतया खुफिया विफलता हैं.’ उन्होंने कहा कि पूर्व में सूचना होने के बावजूद इसे रोका नहीं जा सका. उन्होंने मांग की है कि पुलिस महानिरीक्षक को इस्तीफा दे देना चाहिए|

Related Articles