नये साल की खुशियों से भी कर वसूली करेगी यूपी सरकार

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में अब नये साल का जश्न मनाना आसान नहीं होगा। यदि आप घर के अंदर जश्न मना रहे हैं तो कोई बात नहीं। लेकिन यदि आप नववर्ष की पूर्व संध्या के अवसर पर होटलों, क्लबों, वाटर पार्कों, रिर्सोटस, मनोरंजन पार्कों एवं स्थलों, रेजीडेन्ट कालोनियों, तथा अन्य स्थानों पर मनोरंजन के कार्यक्रम रखकर नये साल का स्वागत करना चाहते हैं तो आप पर रहेगी मनोरंजन विभाग की नजर।

उत्तर प्रदेश के मनोरंजन कर राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) मदन चौहान ने विभाग के समस्त अधिकारियों तथा जिलाधिकारियों को इस सम्बन्ध में निर्देश दे दिये हैं। मंत्री ने कहा है कि नववर्ष की पूर्व संध्या के अवसर पर आयोजित होने वाले मनोरंजक कार्यक्रमों पर पैनी नजर रखें। उन्होंने आयोजकों को ऐसे मनोरंजक कार्यक्रमों को आयोजित करने के लिए पूर्व अनुमति प्राप्त करने के निर्देश दिये हैं। श्री चौहान ने विभागीय समस्त अधिकारियों को निर्देशित किया है कि बिना अनुमति के आयोजित कार्यक्रमों के आयोजकों के विरूद्ध विधिक कार्रवाई करें। बिना अनुमति तथा बिना मनोरंजन कर की अदायगी किये मनोरंजन कार्यक्रमों का आयोजन करने पर उत्तर प्रदेश आमोद एवं पणकर अधिनियम के तहत मनोरंजन कर निर्धारण करते हुए 20 हजार अर्थ दण्ड की वसूली आयोजकों से करने के निर्देश दिये हैं।

श्री चौहान ने समस्त जिला मनोरंजनकर अधिकारियों को निर्देशित किया है कि वे आयोजकों को मनोरंजन कार्यक्रमों के आयोजन हेतु पूर्व अनुमति के लिए निर्धारित प्रपत्र फार्म-डी भरवाकर अनुमति प्रदत्त करें और उनसे मनोरंजन कर की वसूली कर राजकोष में जमा करायें।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button