दो दिन में खत्म होगा ग्राम प्रधानों का कार्यकाल,देखिये क्या होंगे नए नियम

25 दिसम्बर को ग्राम प्रधानों का कार्यकाल खत्म होते ही राज्य में पंचायत चुनाव होने के पहले नई व्यवस्था करने की तैयारी कर ली है।

 लखनऊ: उत्तर प्रदेश में 25 दिसम्बर को प्रदेश के सभी ग्राम प्रधानों का कार्यकाल समाप्त हो जायेगा। इसके बाद सभी प्रधान ग्राम पंचायतों को चलाने के लिये वित्तीय और प्रशासनिक अधिकारो से अलग कर दिया जायेगा।

उत्तर प्रदेश के पंचायतीराज विभाग ने 25 दिसम्बर को ग्राम प्रधानों का कार्यकाल खत्म होते ही राज्य में पंचायत चुनाव होने के पहले नई व्यवस्था करने की तैयारी कर ली है।

पंचायत सचिव के सहयोग के साथ ग्राम पंचायत के वित्तीय और प्रशासनिक अधिकार सहायक विकास अधिकारी पंचायत को दे दिया जाएगा। हो सकता है अगले दो दिन में ही प्रदेश के पंचायतीराज विभाग के द्वारा आदेश जारी हो जाए।

मुख्यमंत्री को भी पत्र लिखा

राष्ट्रीय पंचायतीराज विभाग संगठन ने पंचायतीराज मंत्री चौधरी भूपेन्द्र सिंह को ज्ञापन देने के साथ मुख्यमंत्री को भी पत्र लिखा कि जब तक प्रदेश में ग्राम पंचायत चुनाव नहीं हो रहे हैं तब तक वर्तमान ग्राम प्रधानों की अध्यक्षता में ही प्रशासनिक समीति का गठन कर के ग्राम पंचायतों को चलया जाए। सरकार ने अश्वासन दिया है कि इस मांग पर विचार किया जायेगा।

पंचायतीराज विभाग भी इस प्रस्ताव पे विचार कर रहे हैं कि 25 दिसम्बर के बाद वर्तमान ग्राम प्रधान का कार्यकाल खत्म होने के बाद वह व्यक्ति ग्राम का एक समान्य नागरिक ही रह जाता है तो कानून के हिसाब से उसके पास कोई भी अधिकार नहीं रहता है इस स्थिति में ग्राम प्रधान को प्रशासनिक समित में कैसे रखा जा सकता है।

यह भी पढ़े:  मनीष सिसोदिया को यूपी पुलिस ने सरकारी स्कूल देखने से रोका

यह भी पढ़े: प्रियंका गांधी ने CM योगी को लिखा पत्र, कहा- ‘इसके लिए जिम्मेदार कौन है?’

 

Related Articles