तीसरी क्लास के बच्चे ने रोबोट बनाकर किया कमाल, दुनिया देखकर हुई हैरान

0

बता दें, सारंग को लेकर कहा जाता है कि उन्‍हें रोबोट बनाने की प्रेरणा अपने इंजीनियर पापा से मिली। इसके अलावा एक बार सारंग ने अपनी मां को फर्श को क्‍लीन करते हुए देखा था। यह देखकर सारंग के मन में आया कि क्‍यों न कुछ ऐसी चीज बनाई जाए जिससे आसानी से फर्श को साफ किया जा सके। इस तरह उन्‍होंने सफाई करने वाले रोबोट को तैयार चाहिए।

हालांकि अब सारंग आठ साल के हो चुके हैं और वह तीसरी क्‍लास में पढ़ते हैं। अब तक उन्‍होंने कई सारी अचीवमेंट हासिल की है। इसके अलावा वह चीन के शेनझेन में फैब 12 सम्मेलन में सबसे कम उम्र के रोबोट मेकर थे। हाल ही में उन्‍होंने एक र्स्‍माट बेल्‍ट का निर्माण किया है। इस बेल्‍ट की खासियत यह है कि दुर्घटना स्थिति को समझकर यह अपनी प्रतिक्रिया देता है।

वहीं यह बेल्‍ट स्‍पेशली बच्‍चों और बुजुर्ग को ध्‍यान में रखकर डिजाइन की गई है। इसमें ऐसी डिवाइस लगाई गई है जिससे वॉटर, फायर सेंसर और पानी आग का पता भी लगाया जा सकता है। इस तरह जैसे ही कोई घटना होने के चांसेस होते हैं बेल्‍ट अपने आप खुल जाती है।

loading...
1
2
शेयर करें