अयोध्या विवाद पर भड़के केन्द्रीय मंत्री, कहा- मंदिर नहीं तो क्या बाबर का…?

लखनऊ। आगामी 2019 के चुनाव से पहले एकबार फिर राम मंदिर का मुद्दा गर्म होता नज़र आ रहा है। आए दिन कोई न कोई नेता केंद्र से लेकर राज्य सरकार तक को याद दिलाता रहता है कि 2019 से पहले यह निर्माण होना है। ऐसा भी बीजेपी के समर्थकों कहना है कि अगर यह निर्माण न हुआ आने वाले चुनाव में परिणाम बुरे हो सकते हैं। हाल ही में केंद्र सरकार के मंत्री अश्वनि चौबे ने भी इस निर्माण को लेकर एक बयान दिया है।

जारी किए गए बयान में मंत्री ने कहा है कि स्वाभाविक तौर पर अयोध्या में राम का मंदिर बनना है, किसी बाबर का नहीं। इसके बाद सुप्रीम कोर्ट का जो भी फैसला आएगा मान्य होगा। सुप्रीम कोर्ट पर भरोसा दिखाता हुए उन्होंने कहा कि उम्मीद है कोर्ट सब भावनाओं का सम्मान करेगा। जिसके बाद केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी और बीजेपी नेता ने यह भी घोषणा की थी कि आगामी चुनाव को सिर्फ विकास के एजेंडा पर ही लड़ा जाएगा। इसके बाद कहा जा रहा है कि अयोध्या के संतो का एक तबका नकवी से बेहद नाराज़ है।

साथ ही बताया जा रहा है कि राम मंदिर को लेकर हाल ही में पीएम मोदी को भी एक खत लिखा गया है। जिसमें इस निर्माण को और ज्यादा गंभीरता से लेने के लिए कहा गया है, और साथ ही याद दिलाया गया कि यह निर्माण 80 लाख हिन्दू की आस्था से जुड़ा हुआ है। अगर यह निर्माण नहीं हुआ 2019 में होने वाले चुनाव में अंजाम भुगतना पड़ सकता है।

Related Articles