जयपुर में साफ़ दिख रहा चुनावी बिगुल का नज़ारा, क्या राहुल की रणनीति का चुनाव पर होगा असर

0

चुनावी मंज़र ने काफी जोर पकड़ लिया है। राजस्थान में चुनावी बिगुल का नज़ारा साफ़ देखने को मिल रहा है। पार्टियां अपनी-अपनी रणनीतियों से चुनाव जीतने के लिए मशक्कत करती नज़र आ रहीं हैं। इस चुनावी महाभारत के लिए सबने कमर कस ली है और उनका यह नज़ारा जयपुर में साफ़ दिखाई दे रहा है। भारतीय जनता पार्टी का मोर्चा मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने संभाल रखा है वहीँ दूसरी और राहुल गाँधी ने भी चुनाव प्रचार के लिए जयपुर पधार रहे हैं।

जयपुर में साफ़ दिख रहा चुनावी बिगुल का नज़ारा, क्या राहुल की रणनीति का चुनाव पर होगा असर

चुनाव की तैयारी जोर-शोर से चल रही है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी जयपुर पहुँच कर रोड शो कर रहे हैं। चुनाव में जीत की यह जद्दोजहद भविष्य के कार्यकाल की कुर्सी के लिए ललक को साफ़ दर्शा रही है। बात करें जयपुर की तो सीटों के लिहाज से यह जिला सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है। इसलिए पार्टियां जिले पर आँख गड़ाए बैठी हुई हैं. जब पार्टियां जिले को पाने के लिए पलायन कर रही हैं तो भला राहुल गाँधी कैसे पीछे रहें, उन्होंने भी अपनी नज़र जिले पर टिका राखी है। इस चुनावी दंगल में राजस्थान कांग्रेस के अध्यक्ष सचिन पायलट भी अपना दम ख़म दिखाने में पीछे नहीं हैं, उन्होंने भाजपा को लेकर कहा कि जयपुर में मजबूत होने वाले भाजपा के दावे को वह झूठा साबित कर देंगे।

इसी के साथ ही पायलट ने जयपुर को लेकर वजह बताई है। उन्होंने अपना पक्ष रखते हुए कहा कि गांधी राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने के बाद पहली बार इस यात्रा पर आ रहे हैं, शहर के लिहाज़ से उन्होंने कहा कि यह वही शहर है जहां से उन्हें पार्टी का उपाध्यक्ष बनाया गया था। यह बात कहते हुए उन्होंने कांग्रेस पार्टी के लिए जयपुर का महत्त्व बता डाला।

अगर बात करें जयपुर विधानसभा सीटों की तो वहां कुल 19 सीटें हैं, जिसमें 14 सीटें सामान्य हैं, और 3 अनुसूचित जाति के लिए हैं। वहीँ 2 सीटें अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित की गई हैं। 13 तहसील वाले इस जिले में करीब 87 फीसद हिंदू आबादी है. जबकि 10 फीसद के करीब मुस्लिम जनसंख्या हैं। जिले में अनुसूचित जाति की आबादी 15.1% और अनुसूचित जनजाति की जनसंख्या 8% है।

शहरी और ग्रामीण आबादी के लिहाज से देखा जाए इस जिले में 52.4% लोग शहरी क्षेत्रों में रहते हैं, जबकि ग्रामीण आबादी 47.6% है। आमतौर पर शहरी आबादी में भारतीय जनता पार्टी को मजबूत माना जाता ।चुनाव नतीजे भी इसकी पुष्टि करते नजर आते हैं। राज्य के पिछले दो विधानसभा चुनाव की बात की जाए तो जयपुर जिले में भी परिणाम बीजेपी के पक्ष में ही गए हैं।

loading...
शेयर करें