महिला जज ने रेपिस्ट की सजा की कम, कहा- सिर्फ 11 मिनट हुआ रेप, मच गया बवाल

स्विज: दुनिया के कई देशों में बलात्‍कार के मामले में कठोर दंड दिए जाते हैं, वहीं स्विजरलैंड में एक अदालत ने पिछले महीने बलात्कार के आरोपी को अजीबोगरीब फैसला सुनाया है। कोर्ट की महिला जज ने बलात्‍कारी की सजा ये कहते हुए कम करदी कि उसने महिला के साथ सिर्फ 11 मिनट तक रेप किया है, जज का यह फैसला बेहद ही निंदनीय है।

देश की जनता का महिला जज से सवाल है कि, क्या दुष्कर्म के आरोपी को सजा अपराध की समयसीमा के आधार पर दिया जाना न्याय है? स्विट्जरलैंड में रेप के मामले में एक जज के तर्क से नाराज लोगों ने सड़कों पर प्रदर्शन किया। इस प्रदर्शन में महिला प्रदर्शनकारियों संख्या सबसे अधिक है।

पिछले साल हुआ था बलात्कार

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, 20 जून 2020 में बलात्कार के मामले में कोर्ट ने अजीबोगरीब फैसला सुनाया। बेसल में रहने वाली 33 साल की महिला ने आरोप लगाया था कि उसके घर के बाहर दो पुर्तगालियों ने अटैक करके उसे बंधक बनाकर रेप किया। जिसमें एक आरोपी की उम्र 17 साल और दूसरा 32 साल है। मामले पर फैसला सुनाते हुए महिला जज ने कहा कि सिर्फ 11 मिनट तक रेप हुआ। ये अपेक्षाकृत कम अवधि थी।

51 महीने से घटाकर सजा

कोर्ट ने नाबालिग को सजा नहीं सुनाई लेकिन दूसरे दोषी की सजा को 51 महीने से घटाकर 36 महीने कर दिया गया है। जज के इस फैसले से नाराज लोगों ने सड़को पर प्रदर्शन किया और फैसला वापस लेने की मांग की। महिला जज ने एक अजीबोगरीब तर्क और दिया कि पीड़िता ने आरोपियों को सिग्नल भेजे होंगे। इसलिए आरोपियों की हिम्मत बढ़ी होगी। जज ने कहा कि ये बहुत मामूली गलती है।

नाइट क्लब में मिली थी फिर

बताया जा रहा है कि पीड़िता दोनों दोषियों से एक नाइट क्लब में मिली थी। जज ने कहा कि ये महिला आरोपियों से पहले नाइट क्लब में मिली थी और टॉयलेट जाते समय उसने इन्हें एक सिग्नल दिया था। महिला जज के खिलाफ सड़कों पर प्रदर्शन करने वाली ज्यादातर महिलाएं ही थीं। उन्होंने इस दौरान 11 मिनट का मौन रखा। महिलाएं ’11 मिनट बहुत ज्यादा होते हैं’ लिखे बैनर के साथ प्रदर्शन कर रही थीं।

Related Articles