शादी करने की जल्दी थी युवक को , किसी ने न सुनी तो उसने मौत चुनी

0

कानपुर: सगाई की तारीख जल्द तय न होने से परेशान युवक ने दर्दनाक कदम उठा लिया। ऐसा कदम उठाने से पहले उसने अपने चाचा को कॉल करके एक खेत में बुलाया। घर से खेत की दूरी करीब 500 मीटर थी। जबतक लड़के का चाचा खेत तक पहुंचता उसने अपनी जीवन-लीला समाप्त कर ली थी। दिल को झकझोर देने वाली ये घटना यूपी के कन्नौज जिले में हुई।गांव चांदापुर निवासी विनोद कुमार  (22) पुत्र राजेंद्र सिंह बंजारा जसरा इलाहाबाद में रहकर साड़ी बेचने का काम करता था। पिता ने बताया कि इटावा के नरैनी गांव निवासी एक किशोरी से उसकी शादी तय हो गई थी। व्यापार के लिए जाते समय लगभग दो महीने पहले एक्सीडेंट हो गया था। इलाज के बाद से विनोद घर पर रह रहा था। गुरुवार शाम मां से सगाई की तारीख जल्द तय करने की जिद करता रहा।परिजनों ने समझाया कि लड़की वाले अप्रैल में शादी करना चाह रहे हैं। इसके बाद बिना खाना खाए नाराज होकर सोने चला गया।

वह शुक्रवार सुबह 8 बजे घर से निकल गया। चाचा हाकिम सिंह को फोन कर गांव से आधा किलोमीटर दूरी पर रामबरन के खेत में आने को कहा। वह पहुंचे तो फांसी के फंदे से विनोद को झूलते देखा। उन्होंने परिजनों को जानकारी दी। कई गांव के लोगों की भीड़ लग गई।

पिता राजेंद्र ने बताया कि विनोद चार पुत्रों में दूसरे नंबर का था। बेटे संजय व सुनील बाहर रहकर व्यापार करते हैं। चार पुत्रियों में पूजा व आरती की शादी कर दी है। पिता की सूचना पर प्रभारी निरीक्षक राजा दिनेश सिंह ने जांच पड़ताल की। चौकी प्रभारी अमोलर महेंद्र सिंह ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।विनोद ने आत्महत्या करने से पहले चाचा हाकिम को फोन किया था। काफी देर तक वह इंतजार करता रहा। उनके न पहुंचने पर गुस्से में आकर पहले मोबाइल तोड़ डाला, फिर फांसी लगा ली। चाचा का कहना है कि अगर जल्दी पहुंच जाते तो समझाने पर वह मान जाता और जान बच सकती थी।

loading...
शेयर करें