नाश्ते में पास्ता खाने के हैं कई फायदे, तो आज से शुरू करें…

सुबह का नाश्ता दिनभर का सबसे अहम हिस्सा होता है। इसलिए लोग यही कहते है नाश्ता हमेशा हैवी और हेल्दी होना चाहिए। हेल्दी ब्रेकफास्ट आपको पूरे दिन फुर्तीला और तंदरुस्त रहने में मदद करता है। आमतौर पर शरीर को चुस्त दुरुस्त रखने एवं पूरे दिन एक्टिव रहने के लिए सुबह का नाश्ता बहुत जरूरी होता है। नाश्ता न सिर्फ हमारे दिमाग को तेज बनाता है बल्कि ये गैस एवं एसिडिटी जैसी समस्याओं को दूर रखने एवं मोटापे को कंट्रोल करने में भी काफी फायदेमंद होता है।

हम अक्सर नाश्ते में पराठा खाना पसंद करते हैं, लेकिन अगर हम आपको बोले की नाश्ते में पास्ता खाना बेहद ही फायदेमंद होता है। क्यों हैरान हो गए न? हम नाश्ते में व्हीट पास्ता खाने के फायदों की बात करें तो शायद आपको यकीन न हो लेकिन यह सच है कि सुबह पास्ता खाना हमारी सेहत के लिए काफी फायदेमंद हो सकता है। आइए जानते हैं व्हीट पास्ता किस तरह है फायदेमंद।

नाश्ते में पास्ता खाने के फायदे:

पोषक तत्व

गेहूं के बने पास्ते यानि व्हीट पास्ते में पर्याप्त मात्रा में फाइबर, आयरन, विटामिन बी और मिनरल होता है जो शरीर को पर्याप्त पोषक तत्व प्रदान करता है। एक कप होल व्हीट पास्ता में 174 कैलोरी होती है और ये नाश्ते के लिए कम्पलीट आहार का काम करता है। अगर आपका बच्चा ठीक से नाश्ता नहीं करता है तो आप उसे नाश्ते में व्हीट पास्ता दे सकती हैं। इससे वजन बढ़ने की समस्या नहीं होती है।

कोलेस्ट्रॉल घटाने में मदद

होल व्हीट पास्ता में पर्याप्त मात्रा में फाइबर होता है जो सेहत के लिए फायदेमंद होता है। रिसर्च में पाया गया है कि व्हीट पास्ता खाने से टाइप 2 डायबिटीज की शिकायत नहीं होती है और डाईजेशन भी बेहतर होता है। इसके अलावा ये कोलेस्ट्रॉल को भी कंट्रोल करने में मदद करता है।

कार्बोहाइड्रेट

पास्ते को नाश्ते में खाने से आपको जरूरी प्रोटीन्स और विटामिन्स तो मिलते ही हैं साथ में शरीर के लिए जरुरी कार्बोहाइड्रेट भी उचित मात्रा में मिल जाता है। जिससे आपका संपूर्ण स्वास्थ बेहतर होता है।

ब्लड शुगर को कंट्रोल करें

वास्तव में सेहत का ध्यान रखते हुए होल व्हीट पास्ता साबुत गेहूं से बनाया जाता है। इसमें 37 ग्राम कार्बोहाइड्रेट, 6 ग्राम फाइबर, 7.5 ग्राम प्रोटीन, 174 कैलरी और फैट 0.8 ग्राम होता है। नाश्ते में होल व्हीट पास्ता खाने से शरीर पर चर्बी नहीं जमती है और ब्लड शुगर का स्तर नियंत्रित रहता है।

Related Articles