घर में ही था एक्टिंग का माहौल, इन किरदारों से साबित किया रत्ना ने डीएनए का दम

0

हिंदी सिनेमा की जानी मानी अदाकारा रत्ना पाठक उन कलाकारों में से हैं जिन्होंने अपने फिल्मी करियर में एक से बढ़कर एक यादगार रोल निभाए है । वह हर रोल में फिट हो जाती हैं। चाहे वह कॉमेडी किरदार हो या सीरियस रोल। 63 साल की हो चुकीं रत्ना पाठक शाह का जन्म 18 मार्च 1957 को मुंबई में हुआ था। रत्ना पाठक शाह का नाम लेते ही जहन में ‘साराभाई वर्सेस साराभाई’ और ‘इधर उधर’ जैसे सीरियल याद आते हैं।

रत्ना पाठक एक फिल्मी परिवार से ताल्लुक रखती हैं। वहीं उनकी मां दीना पाठक जानी-मानी एक्ट्रेस थीं। उनकी बहन सुप्रिया पाठक भी बेहतरीन एक्ट्रेस में से एक हैं। वहीं घर में एक्टिंग का माहौल होने के बावजूद रत्ना एक्ट्रेस नहीं बनना चाहती थीं बल्कि वह तो पायलट या एयरहोस्टेस बनना चाहती थीं।

रत्ना पाठक ने अपने से 13 साल बड़े मशहूर एक्टर नसीरुद्दीन शाह से शादी की। वहीं दोनों की लव स्टोरी किसी फिल्मी कहानी से कम नहीं है। इसके साथ ही रत्ना और नसीर की पहली मुलाकात 1975 में हुई थी। वहीं जब रत्ना पाठक शाह कॉलेज स्टूडेंट थीं और नसीरुद्दीन शाह एफटीआईआई से ग्रेजुएशन कर रहे थे।

वहीं सत्यदेव दुबे के डायरेक्शन में बने ‘संभोग से संन्यास तक’ नामक प्ले में इन्होंने पहली बार काम किया था। इसके साथ ही इस प्ले के रिहर्सल के दौरान उनकी पहली मुलाकात हुई थी। इस मुलाकात के बारे में रत्ना ने बताया था, ‘यह पहली नजर का प्यार नहीं था।

इसके साथ ही दुबे ने जब हमें मिलवाया तब मैं इनका सही नाम तक नहीं जान पाई थी। ‘वहीं उनके के दो बेटे इमाद और विवान हैं। इसके साथ ही रत्ना पाठक शाह ने ‘मंडी’, ‘मिर्च मसाला’, ‘अलादीन’, ‘जाने तू या जाने ना’, ‘गोलमाल 3’, ‘एक मैं और एक तू’, ‘खूबसूरत’ जैसी कई हिट फिल्में कीं है।

loading...
शेयर करें