सरकार व किसानों के बीच होगा टकराव, 26 जनवरी को ट्रैक्टर से विधानसभा करेंगे कूच

लखनऊ: केंद्र सरकार (Central Government) और किसानों के बीच कृषि कानूनों को लेकर सभी बातचीत बेनतीजा निकल रही है। किसानों के साथ सरकार की 10 वीं बातचीत पर भी कोई हल नहीं निकला है। केंद्र सरकार (Central Government) ने बुधवार को 10 वीं बातचीत में किसानों के समक्ष कृषि कानूनों को डेढ़ साल के लिए रोकने का प्रस्‍ताव रखा लेकिन आंदोलन कर रहे किसानों ने इसे ठुकरा दिया। वहीं उत्तर प्रदेश के किसान भी इस प्रस्ताव से नाराज है और राष्ट्रीय पर्व गणतंत्र दिवस (26 जनवरी) को राजधानी लखनऊ में सैकड़ों की संख्या में ट्रैक्टर पर तिरंगा लहराते हुए विधानसभा कूच करेंगे।

भारतीय किसान मंच के राष्ट्रीय अध्यक्ष देवेंद्र तिवारी ने बताया है कि केंद्र सरकार द्वारा दिए गए प्रस्ताव से सिर्फ उत्तर प्रदेश का किसान नहीं बल्कि भारत देश का हर किसान बेहद नाराज है। उन्होंने कहा सरकार ने किसानों के सामने कृषि कानूनों को डेढ़ साल के लिए रोकने का प्रस्‍ताव रखा लेकिन इसे ठुकरा दिया गया है। देवेंद्र तिवारी ने कहा 26 जनवरी को संयुक्त किसान संघ के बैनर तले लखनऊ में विशाल आंदोलन होगा। किसानों की भारी भीड़ ट्रैक्टर पर तिरंगा लहराते हुए विधानसभा कूच करेंगे। उन्होंने बताया कि अब तक 7 से अधिक किसान संगठनों ने संयुक्त किसान संघ में शामिल होकर आंदोलन की रूपरेखा तय की है।

ये भी पढ़ें : सुपरस्टार सलमान खान की नई फिल्म, इंटरनेशनल फिल्मों की तरह होगी शुटींग

सरकार व किसानों के बीच टकराव होगा

उन्होंने बताया है कि 26 जनवरी के दिन राष्ट्रीय पर्व गणतंत्र दिवस के मौके पर उत्तर प्रदेश के हजारों किसान भाई आंदोलन करेंगे। केंद्र सरकार द्वारा लाए गए कृषि कानून के खिलाफ किसानों की भारी भीड़ ट्रैक्टर पर तिरंगा लगाकर आलमबाग नहरिया से लेकर विधानसभा तक कूच करेगी। गणतंत्र दिवस पर लखनऊ में सरकार व किसानों के बीच टकराव होगा। उन्होंने बताया उनका अहिंसात्मक आंदोलन ऐतिहासिक बन गया है। अन्नदाता सम्मान का पात्र है हमे अपमानित नहीं किया जाना चाहिए। किसानों की मांगों की उपेक्षा नहीं होनी चाहिए। हमारी मांगों को मानने से राष्ट्र का गौरव बढ़ेगा।

ये भी पढ़ें : Ram Temple: गौतम गंभीर ने दिया 1 करोड़ रूपये का चंदा

 

Related Articles

Back to top button