एसेट मैनेजमेंट कंपनीओं के इन एम्प्लॉयज़ को बतौर सैलरी मिलेंगे mutual fund यूनिट्स

नई दिल्ली : मार्केट रेगुलेटर सेबी ने बुधवार को एक सर्कुलर जारी करके कहा है कि अब एसेट मैनेजमेंट कंपनीओं के अहम एम्प्लॉयज़ को सैलरी का कम से कम बीस फीसदी हिस्सा म्यूचुअल फंड्स (mutual fund) के तौर पर दिया जाएगा। खबर के मुताबिक सेबी का यह सर्कुलर 1 जुलाई 2021 से लागू होगा।

32-ट्रिलियन रुपए की इंडस्ट्री है mutual fund

म्यूचुअल फंड के अहम एम्प्लॉयज़ का इंट्रेस्ट एसेट मैनेजमेंट कंपनीओं में बनाये रखने के खातिर सेबी ने यह कदम उठाया है। सर्कुलर के मुताबिक, यह फैसला लिया गया है कि एसेट मैनेजमेंट कंपनीओं के सीनियर ऑफिशल्स को सैलरी का बीस फीसद म्यूच्यूअल फण्ड के रूप में दिया जायेगा।

यह भी पढ़ें : अपनी जागीर पाने के लिए सैमसंग चुकाएगा अरबों का Inheritance Tax

सेबी के इस सर्कुलर के मुताबिक, एसेट मैनेजमेंट कंपनी के अहम एम्प्लॉयज़ की सैलरी, पर्क्स, बोनस और नॉन कैश कंपनसेशन का पांचवां हिस्सा म्यूचुअल फंड यूनिट्स के तौर पर दिया जाएगा।

इस मसले के जानकारों के  मुताबिक एसेट मैनेजमेंट कंपनीओं के अहम एम्प्लॉयज़  चीफ एक्सिक्यूटिव ऑफिसर, चीफ इनवेस्टमेंट ऑफिसर, चीफ ऑपरेशन ऑफिसर, चीफ रिस्क ऑफिसर, चीफ  इनफॉरमेशन सिक्योरिटी ऑफिसर, फंड मैनेजर और कुछ दूसरे कई ऑफिशल्स होते है। इनके अलावा कंप्लाएंस ऑफिसर, सेल्स हेड, इनवेस्टर रिलेशन ऑफिसर, डिपार्टमेंट हेड और एसेट मैनेजमेंट कंपनीओं के डीलर भी इसमें शामिल होते हैं।

यह भी पढ़ें : Time की पहली इन्फ्लुएंशियल कंपनियों की लिस्ट में हैं भारत की इन दो कंपनियों के नाम

Related Articles