IPL
IPL

Women Empowerment की मिसाल हैं यूपी की ये लड़कियां

प्रदेश की युवतियां भी अब रोज़गार की तलाश में काफी आगे दिखाई पड़ रही है। इसमें खास बात है कि ग्रामीण छेत्र की लड़कियां आत्मनिर्भर बनने के लिए काफी आतुर है। 

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में रोज़गार को लेकर काफी सवाल उठते रहते है और आए दिन कहीं न कहीं रोज़गार को लेकर प्रदेश में बेरोज़गारो द्वारा प्रदर्शन किया जाता है। तो वहीँ उत्तर प्रदेश की युवतियां भी अब रोज़गार ( Employment ) की तलाश में काफी आगे दिखाई पड़ रही है। इसमें खास बात है कि ग्रामीण छेत्र की लड़कियां आत्मनिर्भर बनने के लिए काफी आतुर है।

रोज़गार को लेकर प्रदेश की युवतियों में काफी उत्सुकता है वह बढ़ चढ़ कर रोज़गार हासिल करने में अपनी हिस्सेदारी दिखा रही है। इस समय वह अपने माता-पिता की असहमति के बावजूद भी घरो से निकल कर शहर की तरफ निकल रही है। उनकी आँखों में बड़े सपनो को साकार करने की ललक ने उन्हें शहर की तरफ रुख करने को मजबूर कर दिया है। अभी तक ग्रामीण इलाको की युवतियां घरों से निकलने में झिझकती थी लेकिन अब दौर कुछ नया है। युवतियां भी नए भारत के निर्माण में अपने हिस्सेदारी निभाना चाहती है।

गाँव से शहर का सफर

गाँव से निकल कर युवतियां शहर आकर अपने छमता अनुसार रोज़गार की तलश करती है। कभी वह कॉल सेंटर, रिसेप्शनिस्ट ( Receptionist ), पार्लर ( Parlor ), टीचिंग ( Teaching ) आदि जैसी जगहों पर कार्य करती है। और अपने सपनो के लिए आगे बढ़ती है। इस पर बात करते हुए सुल्तानपुर जिले के कुडभर की रेणुका बताती हैं कि शहर आने के बाद अब वह एक कॉस्मेटिक स्टोर ( Cosmetic store ) में काम करती हैं जहां उन्हें हर महीने 4000 रूपये भी मिलते हैं।

वहीँ दूसरी तरफ मउ जिले की शुभी ने भी बताया कि कैसे उन्होंने अपना मुकाम हासिल करना चाहती हैं और वह इसके लिए ब्यूटी पार्लर ( Beauty Parlour ) में काम कर रही हैं। शुभी ने भी बताया कि एक महीने के फ्री इंटर्नशिप ( internship ) के बाद शुभी को नौकरी मिल गई। इस नौकरी से शुभी प्रतिमाह 2500 रूपये कमा रही हैं।

यह भी पढ़े: न्यूयॉर्क के गवर्नर पर लगा गंभीर आरोप, घरवालों के सामने दबोच कर महिला को किया किस

Related Articles

Back to top button