भारत की ये स्मार्टफोन निर्माता कंपनियां ले सकतीं हैं चीनी कंपनियों की जगह

नई दिल्ली:साल 2014 में चीनी स्मार्टफोन निर्माता कंपनियों ने भारती बााजर में एंट्री मारी थी। इसके बाद से Micromax, Lava, Intex, Karbonn जैसी भारतीय स्मार्टफोन कंपनियों का बाजार चौपट हो गया। Xiaomi, Vivo, OPPO जैसी कंपनियों ने भारतीय बाजार में सस्ते स्मार्टफोन्स लॉन्च करके इन भारतीय कंपनियों के लिए चुनौती खड़ी कर दी। जिसके बाद से इन कंपनियों का भारतीय बाजार में मार्केट शेयर लगातार गिरता रहा और इनमें से कई कंपनियां बंद होने के कगार पर पहुंच गई। लेकिन एक बार फिर से Micromax, Lava और Karbonn ने वापसी की उम्मीद जगाई है। Micromax ने पिछले दिनों ही अपने ट्वीटर हैंडल से वापसी करने की बात कही है। यही नहीं, ऐसी भी खबरें सामने आ रहीं हैं कि Karbonn और Lava जल्द ही भारत में बजट स्मार्टफोन पेश करने वाली हैं।

पिछले कई महीनों से चीनी प्रोडक्ट्स के बहिष्कार की बात चल रही है। पिछले महीने माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने आत्मनिर्भर भारत के लिए सबको आगे आने के लिए कहा था, जिसके बाद से सोशल मीडिया पर चीनी प्रोडक्ट्स के बहिष्कार की बातें सामनें आ रहीं हैं। इसका नतीजा ये हुआ कि TikTok जैसे ऐप्स की रेटिंग में भी गिरावट देखी गई। आज हम आपको ऐसी 11 भारतीय स्मार्टफोन निर्माता कंपनियों के बारे में बताने जा रहें हैं जो भारतीय बाजार में चीनी स्मार्टफोन कंपनियों Xiaomi, Vivo, OPPO आदि के लिए चुनौती पैदा कर सकतीं हैं।

  • पहला ये कि कंपनिंयां चीन में ही स्मार्टफोन को असेंबल करती हैं और फिर उसे भारतीय बाजार में इंपोर्ट करके बेच रहीं हैं।
  • कुछ चीनी कंपनियां चीन से रॉ मैटेरियल मंगवाकर उसे भारत के असेंबलिंग प्लांट में असेंबल करके मेक फॉर इंडिया के तहत बाजार में उपलब्ध करवा रहीं हैं।
  • वहीं, कुछ चीनी कंपनियां भारत में ही R&D (रिसर्च एंड डेवलेपमेंट) सेंटर के जरिए अपने प्रोडक्ट्स को डिजाइन करती है, पार्ट्स बनवातीं हैं और फिर उन्हें भारत में भी बेचतीं हैं और एक्सपोर्ट भी करतीं हैं। इसके लिए OPPO, OnePlus जैसी कंपनियों ने भारत में ही अपने R&D सेंटर बना लिए हैं और अपने स्मार्टफोन्स को भारत में ही डिजाइन करते हैं और बेचते हैं।

भारतीय स्मार्टफोन निर्माता कंपनियां को भी ज्यादातर रॉ मैटेरियल्स के लिए चीन पर निर्भर रहना होगा। लेकिन, इन कंपनियों के स्मार्टफोन्स पूरी तरह से भारत में ही डिजाइन और असेंबल किए जाएंगे। आइए, जानते हैं इन कंपनियों के बारे में।

Related Articles