नौकरीपेशा महिलाओं को ये देश देगा साल में 10 दिन की अतिरिक्त छुट्टी, जानें वजह!

ऑकलैंड: न्यूजीलैंड में लगातार बढ़ती घरेलू हिंसा को देखते हुए देश की संसद ने बड़ा फैसला लिया है। संसद ने घरेलू हिंसा से पीड़ित नौकरीपेशा महिलाओं के लिए एक कानून पास किया है। जिसके तहत अब हिंसा पीड़ित महिलाओं को साल में 10 दिन की अतिरिक्त छुट्टी मिलेगी। ऐसा इसलिए, ताकि वह पेशी के लिए कोर्ट जा सके, पति के साथ सुलह और बच्चों पर ध्यान रख सकें।

सरकार के पक्ष में पड़े 63 और खिलाफ पड़े 57 वोट

घरेलू हिंसा के मामले में इस प्रकार का कानून लाने वाला न्यूजीलैंड पहला देश है। संसद में इस कानून को बहुमत के साथ पारित किया गया। इसके पक्ष में 63 वोट पड़े, जबकि 57 वोट विरोध में डाले गये।

देश को हर साल हो रहा 7 अरब डॉलर का नुकसान

न्यूजीलैंड की ग्रीन पार्टी ने इस बिल को पेश किया। संसद के सामने बिल रखते हुए पार्टी सांसद जेन लोगी ने कहा कि न्यूजीलैंड दुनिया के उन कुछ देशों में शामिल है, जहां घरेलू हिंसा का स्तर सबसे अधिक है। यहां औसतन हर चार मिनट में पुलिस घरेलू हिंसा का एक केस दर्ज करती है। जिसके चलते देश को हर साल 4।1 से सात अरब डॉलर तक का नुकसान पहुंचता है।

छुट्टी के लिए नहीं देना पड़ेगा कोई सबूत

न्यूजीलैंड में अब घरेलू हिंसा की शिकार महिलाओं को अवकाश के लिए कोई प्रमाण नहीं देना पड़ेगा। इसके साथ ही वह अपनी सुरक्षा के लिए कंपनी से मनपसंद जगह पोस्टिंग करने और ईमेल एड्रेस या कॉन्टेक्ट की जानकारी बदलने की डिमांड भी कर सकेंगी।

विपक्ष ने किया विरोध

वहीं इस बिल की विपक्षी दल नेशनल पार्टी ने खिलाफत की। पार्टी के प्रवक्ता मार्क मिचेल ने कहा कि इस कानून से नौकरी देने वाली कंपनियों में भेदभाव उत्पन्न होगा। यही नहीं हो सकता है कुछ कंपनियां तो ऐसी महिलाओं को नौकरी से निकाल दें।

Related Articles