चीन से मजबूर हुए दलाई लामा, तिब्‍बत के लिए कही यह बड़ी बात

0

कोलकाता। चीन के सम्राज्‍यवादी नीति का शिकार हुआ तिब्‍बत की आजादी के अब लगभग सभी दरवाजे बंद होते दिख रहे हैं। क्‍योंकि लंबे समय तिब्‍बत की स्‍वातंत्रा की मांग रकने वाले दलाई लामा अपने क्षेत्र के विकास की ओर देख रहें हैं। उन्‍होंने एक बयान दिया है जिससे यह साफ पता चलता कि उनके बयान में अब नरमी दिखाई दिया है। एक संबोधन के दौरान उन्‍होंने कहा कि तिब्‍बत चीन से आजादी नहीं विकास चाहता है।

बता दें कि इंडियन चैंबर ऑफ कॉमर्स द्वारा आयोजित कार्यक्रम में दलाई लामा ने यह बात कही। इससे पहले भी चीन को लेकर दलाई लामा नरमी वाले बायान दे चुके हैं। कुछ दिन पहले कहा था कि अगर चीनी सरकार चाहे तो वह वहां आने के लिए तैयार हैं। लेकिन तिब्‍बत के विकास का वादा करे। आगे अपने बायान में कहा कि  “अतीत बीत गया है, भविष्य पर ध्यान देना होगा। अब तिब्‍बती चीन के साथ खड़ा होना चाहते हैं। इसलिए हम आजादी नहीं विकास मांग रहें हैं।

आगे अपने बयान को बढ़ाते हुए कहा कि चीन को तिब्बती संस्कृति और विरासत का ख्‍याल और सम्मान करना चाहिए। “तिब्बत की अलग संस्कृति और एक अलग लिपि है। जैसे चीनी लोग अपने देश से प्रेम करते हैं हम अपने तिब्‍बत से प्‍यार करते हैं।

यह भी पढ़े-  अमेरिका ने दिया भारत का साथ, कहा- हाफिज सईद को फिर किया जाए गिरफ्तार

loading...
शेयर करें