ये कैसी मोदी लहर, बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी लेकिन ये आंकड़ें भी देख लें

नई दिल्ली। केन्द्र में बीजेपी सरकार को बने लगभग चार साल हो गए। जिसकी खुशी हर जगह मनाई गई। लेकिन जमीनी हकीकत क्या है शायद ही किसी ने कभी गौर किया हो। जिस तरह पार्टी जीत हासिल करती जा रही है उससे तो यही कहा जा सकता है कि बीजेपी आज सबसे बड़ी पार्टी है, लेकिन एक नज़र इन आंकड़ों को देखें तो मोदी लहर के होते हुए भी जमीनी हकीकत कुछ और ही नज़र आएगी।

बीजेपी ने भले ही कई नए राज्यों में अपनी सरकार बनाई हो लेकिन अपने दम पर बनाने वालेे राज्‍यों की सूची बहुत ही कमजोर है। इन आंकड़ोंं में भले ही कुछ अंतर हो लेकिन जमीनी हकीकत यह है कि आज भी बीजेपी अधिकांश राज्यों में बहुत कमजोर पार्टी है।

हकीकत पर आएंं तो बीजेपी के विधायकों की संख्या देश भर के विधायकों की एक तिहाई से कुछ ही ज्यादा है। कुल मिलाकर देश की कुल 4139 विधान सभा सीटों में से 1516 सीटें (करीब 37 फीसदी) ही बीजेपी के पास हैं। इनमें से 950 सीटें सिर्फ उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, राजस्थान, गुजरात, महाराष्ट्र और कर्नाटक की हैंं। साल 2015 से 2018 के बीच लगभग 18 राज्यों में विधान सभा चुनाव हुए लेकिन मात्र पांच जगहों पर ही बीजेपी पूर्ण बहुमत से अपनी सरकार बना पाई। वहीं देखा जाए तो 2014 से 2018 तक 27 राज्यों के विधानसभा चुनावों में मात्र 7 में ही बीजेपी पूर्ण रुप से सरकार बना पाई है। शेष राज्यों में अन्य दलों की सरकार है।

देश के 29 राज्यों और दो केन्द्र शासित राज्यों में भले ही 20 राज्यों में बीजेपी ने सरकार बनाई हो लेकिन पूर्ण बहुमत से सिर्फ 10 राज्यों में ही अपना सिक्का जमा पाई है। रिसर्च के मुताबिक सिक्किम, मिजोरम, तामिलनाडू में बीजेपी एक भी सीट पर जीत पाने में असफल रही है। कर्नाटक और केरल के आंकेड़ों के मुताबिक तो 294 विधानसभा और 140 विधानसभा सीटों पर सिर्फ 9 और 1 सीट पर ही बीजेपी की सरकार है। बात करें तेलंगाना की तो 119 में 5, पंजाब में 117 में से 3,पश्चिम बंगाल में 294 में 3, ओड़िशा में 147 में 10, नागालैंड में 60 में से 12 ही, मेघालय में 60 में 2, बिहार में 243 में 53, जम्मू कश्मीर में 87 में 25 और गोवा में 40 में 13 ही बीजेपी के खाते में आई हैं। बाकि जगहों पर अन्य दलों की सरकार है।

आंकड़े बताते हैं कि साल 2014 में बीजेपी ने नौ राज्यों में केवल दो पर अपनी दम पर सरकार बनाई थी। साल 2014 में भी मोदी लहर की जमकर हवा चली थी। उसी दौरान कहा जाता है बीजेपी ने एक एतिहासिक जीत दर्ज करी थी। उसी साल आंध्र प्रदेश (तेलंगाना समेत), अरुणाचल प्रदेश, हरियाणा, झारखंड, महाराष्ट्र, ओडिशा, सिक्किम और जम्मू-कश्मीर में असेंबली चुनाव हुए थे। इनमें से केवल दो राज्यों में ही हरियाणा और झारखंड में ही बीजेपी अपनी सरकार बना पाई थी।

जिसके बाद 2015 में दिल्ली में बीजेपी को सबसे बड़ा झटका तब लगा विधानसभा की 70 सीटों में से 67 पर आम आदमी पार्टी की जीत हुई। साथ ही इसी साल बिहार से भी मोदी शाह की जोड़ी को बड़ा झटका लगा। हालांकि, जुलाई 2017 आते-आते बीजेपी वहां भी जोड़-तोड़ कर जेडीयू से गठबंधन कर सरकार में शामिल हो गई। साल 2016 के चुनावों में असम, केरल, पुदुचेरी, तमिलनाडु और पश्चिम बंगाल में विधान सभा चुनाव हुए मगर पांच में से एक में भी बीजेपी को बहुमत नहीं मिल सका।

Related Articles