राजधानी से बाहर बैठक कर योगी कैबिनेट ने रचा इतिहास, उत्तराखंड के गठन के बाद से यह पहला मौका

0

प्रयागराजः  आज लखनऊ से बाहर बैठक कर योगी आदित्यनाथ मंत्रिमंडल ने इतिहास रच दिया है। उत्तराखंड के गठन के बाद से यह पहला मौका है, जब उत्तर प्रदेश में मंत्रिमंडल की बैठक राजधानी से बाहर हुई है।

योगी आदित्यनाथ ने इस बैठक की अध्यक्षता करते हुए प्रदेश के इतिहास में राजनीति का नया वाक्या जोड़ दिया है।इस बैठक में डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य व डॉ. दिनेश शर्मा के साथ दो दर्जन से अधिक कैबिनेट मंत्री व स्वतंत्र प्रभार के राज्य मंत्री उपस्थित थे।यह बैठक कुंभनगर की टेंट सिटी में संपन्न हुई। कुंभ मेले में विश्व हिंदू परिषद की 31 जनवरी और 1 फरवरी को धर्म संसद होनी है। यहां से विहिप राम मंदिर निर्माण को लेकर अगली रणनीति तैयार करेगी।

बैठक से पहले योगी आदित्यनाथ ने अपने मंत्रियों के साथ बांध पर लेटे भगवान हनुमान जी का दर्शन किया। इसके बाद सभी लोग अक्षय वट का दर्शन करने के लिए निकल गए। योगी आदित्यनाथ ने डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य व डॉ. दिनेश शर्मा के साथ बांध के पास लेटे हनुमानजी का मंत्रोच्चार के बीच अभिषेक व आरती की। प्रयागराज कुंभ में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने मंत्रीगण के साथ अक्षयवट व सरस्वती कूप के किये दर्शन।

आपको बता दें कि मंत्री बमरौली एयरपोर्ट पर स्टेट प्लेन से पहुंचे। वहां से कार के जरिए संगम के लिए रवाना हो गए। सीएम योगी आदित्यनाथ मंत्रियों के साथ हनुमान जी व अक्षय वट के दर्शन पूजन करने भी जाएंगे।कुंभ में मंत्रिमंडल की बैठक कर इतिहास रचने जा रही प्रदेश सरकार कई अहम प्रस्ताव पारित करेगी।

आठ हेलीकॉप्टर समेत दो स्टेट प्लेन भी आए हैं।मंत्रिपरिषद की बैठक में कई बड़े में धर्म-अध्यात्म से जुड़े प्रस्ताव ही पारित होंगे। इसके बाद मुख्यमंत्री समेत सभी मंत्री पावन संगम में पुण्य की डुबकी लगाने नोज जाएंगे। विश्वशांति के लिए त्रिवेणी पूजा व आरती भी करेंगे। फिर नाथ संप्रदाय के शिविर में कैबिनेट जाएगी, जहां भोज में वे शामिल होंगे। वहां से मुख्यमंत्री और उनके मंत्रिपरिषद के सदस्य बमरौली एयरपोर्ट जाएंगे। 4:30 बजे सीएम गणतंत्र दिवस समारोह बीटिंग रिट्रीट कार्यक्रम के लिए रिजर्व पुलिस लाइन लखनऊ के लिए रवाना होगे।

 

loading...
शेयर करें