इस पत्र ने खोला वाजपेयी के जीवन का एक अनोखा सच, किया था आडवाणी की शादी का जिक्र!

नहीं दिल्ली। आज जब सारा देश गुरूवार को हुए पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के निधन पर शोक मना रहा है, तो ऐसे में उनका एक पत्र सामने आया है, जिसमें उन्होंने आडवाणी के ऐसी शादी का जिक्र किया है जिसे लोग शायद ही जानते हो। इससे उनके हाजिरजवाबी गुणों का पता चलता है।यह पत्र श्याम सुंदर लद्रेछा के नाम है जिसे वाजपेयी ने 19 मार्च 1991 को लिखा था। लद्रेछा राजस्थान हाई कोर्ट में अतिरिक्त महाधिवक्ता हैं। आपको बता दें, 1991 में लद्रेछा की शादी थी। शादी में शामिल होने के लिए उन्होंने अटल बिहारी वाजपेयी को न्योता भेजा, तब वाजपेयी का नाम भावी प्रधानमंत्री के तौर पर काफी उछल रहा था।

वाजपेयी ने लद्रेछा के न्योते का जवाब ऐसे दिया कि लोग सुनकर लोटपोट हो गए। वाजपेयी ने न्योते के जवाब में लिखा-यह जानकर प्रसन्नता हुई कि आप चतुर्भुज होने जा रहे हैं, बहुत-बहुत धन्यवाद। इच्छा होते भी आना संभव नहीं है। यहां भी एक बरात चढ़ रही है। आडवाणी जी उसमें दूल्हा हैं। नई दिल्ली की सरकार को ब्याहकर लाना है।

vajpayee-letter

यह पत्र पाकर लद्रेछा को इस बात का कतई मलाल नहीं रहा कि वाजपेयी जी उनकी शादी में नहीं आ रहे, बल्कि उनकी हाजिरजवाबी पढ़कर वे हमेशा के लिए उनके मुरीद हो गए। आज जब वाजपेयी इस दुनिया में नहीं रहे, देश-दुनिया के अन्य लोगों की तरह लद्रेछा भी इसे व्यक्तिगत हानि मान रहे हैं।

Related Articles