इंसान से अच्छे तो ये बंदर है, दूसरे की जान बचाने के लिए तो कमाल कर दिया

रेलवे स्टेशन पर एक बंदर को करंट लग गया. वहीं दूसरे बंदर ने जान बचाने के लिए ऐसा काम किया. जो सोचा भी नहीं था.

इंसान का पहला कर्म किसी की जान बचाना है. मानवता ये ही है कि जब किसी को दिक्कत हो, मामला जान पर बना हो तो उसकी जान बचाने के लिए आगे आना चाहिए. आज कहीं ना कहीं से ये आवाज सामने आ ही जाती है जब कोई बोल रहा होता है कि भई इंसानियत खत्म हो गई. पर ऐसा नहीं है. इंसानों के साथ-साथ बेजुबान जानवरों में भी किसी की जान बचाने की फितरत होती है. एक बंदर को रेलवे स्टेशन पर बिजली की तारों से करंट लग गया था. वो बेचारा बेहोश होकर पटरियों पर गिर गया. उसके साथी ने उसका साथ नहीं छोड़ा, बल्कि वो लास्ट टाइम तक उसे जगाता रहा, उसके झकझोरता रहा. ताकि उसकी जान बच जाए.

इंसानियत के गुण बंदर ने सीखा दिए

हालांकि यह वीडियो पुराना है लेकिन इंसानियत के गुण इसमें बंदर दुनिया को सीखा रहे हैं. एक बंदर नीचे गिरा हुआ दिखता है.वो उसे उठाता है. उसको गले पर अपना मुंह से कुछ-कुछ करता है. देखने में ऐसा लगता है जैसे वो उसे बचाने के लिए पूरी कोशिश कर रहा हो.

इधर-उधर गिराता है उसे

बंदर उसे इधर-उधर गिराता है, ताकि उसे होश आ जाए। वो उसे एक गंदे से नाले में भी गिरा देता है. इसी बीच दूसरा बंदर जाग जाता है. करंट के शॉक के कारण उसका शरीर काम करना बंद हो गया था. वो बेहोश था लेकिन बाद में उसे इस बंदर ने बचाकर दुनिया को यह सीखा दिया कि कभी किसी की मदद करने से पीछे ना हटो.

बाद में दोनों साथ-साथ बैठे

जब इस जख्मी बंदर को होश आ गया तो बाद में भी वो उसी बंदर के साथ बैठा दिखा. ऐसे लग रहा था जैसे वो उसे हौसला दे रहा हो कि भई सब ठीक हो जाएगा, करंट लगा था तेरे को.

यह भी पढ़ें- UP विधानसभा चुनाव के लिए बीजेपी ने झोंकी ताकत, अगले हफ्ते UP में बीजेपी बनाएगी फुल चुनावी माहौल

(Puridunia हिन्दी, अंग्रेज़ी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब  पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)…

Related Articles