ये शख्स खाता है एक किलो कांच और बल्ब, 45 साल पुरानी है आदत

आमतौर पर जब मनुष्य को भूख लगती है तो वो खाना खाता है लेकिन मध्य प्रदेश में एक ऐसा शख्स है जो खाने के तौर पर अन्न नहीं बल्कि कांच (शीशा) खाता है. जी हां आप बिल्कुल सही सुन रहे हैं वो खाने में चावल, रोटी, फल या कुछ और नहीं बल्कि शीशा खा कर अपना पेट भर लेता है. ऐसा वो शख्स एक दो-दिन से नहीं बल्कि 40-45 साल से करता आ रहा है.

दरअसल मध्य प्रदेश के डिंडोरी के रहने वाले दयाराम साहू को बीते 40-45 साल से कांच खाने की आदत है. अपने इस अजीबोगरीब आदत को लेकर पेशे से वकील दयाराम साहू ने कहा, ‘यह मेरे लिए किसी लत की तरह है और इसकी वजह से मेरे दांत भी खराब हो चुके हैं.’

दयाराम साहू ने लोगों से इसे आजमाने या अपनाने से बचने की सलाह दी है. उन्होंने कहा, ‘मैं लोगों को कहना चाहता हूं कि आप इसे कभी मत अपनाइयेगा क्योंकि यह आपके शरीर और स्वास्थ्य के लिए खतरनाक हो सकता है.’अपनी इस आदत को लेकर दयाराम साहू ने यह भी बताया कि अब शरीर में पीड़ा होने की वजह वो खुद इसे छोड़ना चाहते हैं.दयाराम के मुताबिक उन्हें कांच खाने की आदत उस वक्त लग गई थी जो वो महज 14-15 साल के थे. पहले वो दिन भर में एक किलो कांच चबा जाते थे जिसकी वजह से उनके दांत भी कमजोर हो गए. उनकी पत्नी भी शुरुआत में यह आदत देखकर चौंक गई थीं.

Related Articles