इस बार सुबह नहीं अपने समय पर होगा शपथ ग्रहण समारोह : देवेंद्र फणवीस

महाराष्ट्र विधान परिषद चुनाव के समय राव साहेब दानवे के बयान और उसके कुछ समय बाद ही महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के बयान के बाद से ही महाराष्ट्र की राजनीति में फिर से कोलाहल सुनाई देने लगा है।

महाराष्ट्र : महाराष्ट्र विधान परिषद चुनाव के समय राव साहेब दानवे के बयान और उसके कुछ समय बाद ही महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के बयान के बाद से ही महाराष्ट्र की राजनीति में फिर से कोलाहल सुनाई देने लगा है। जहां पर राव साहेब दानवे ने अपने कार्यकर्ताओं के साथ बात चीत में महाराष्ट्र में फिर से बीजेपी सरकार बनने की बात कही वहीं देवेंद्र फडणवीस के शपथ ग्रहण पर बयान के बाद से ही महाराष्ट्र की राजनिती फिर से सुर्खियां बटोरने लगी है।

देवेंद्र फडणवीस ने सोमवार सुबह मीडिया द्वारा रावसाहेब दानवे के दिए गए बयान पर सवाल पूछने पर कहा कि इस बार महाराष्ट्र में सुबह के ही समय शपथ ग्रहण नहीं किया जाएगा। इस बार शपथ ग्रहण सही समय पर ही होगा।

इस बार सही समय पर होगा शपथ ग्रहण समारोह

देवेंद्र फडणवीस ने अपने बयान में कहा कि महाराष्ट्र में जब विकास अघाड़ी की सरकार गिरेगी उसके बाद महाराष्ट्र में सही समय पर शपथ ग्रहण समारोह होगा। अपने बयान में उन्होनें यह भी कहा कि हमें उन सब बातों को याद नही करना चाहिए।

महाराष्ट्र में बनेगी बीजेपी की सरकार

गौरतलब है कि महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री के बयान से पहले बीजेपी के वरिष्ठ नेता और केंद्र में उपभोक्ता मामलों के राज्य मंत्री रावसाहेब दानवे पाटिल ने ये बयान दिया था कि महाराष्ट्र में कुछ ही महीने में बीजेपी की सरकार बनने वाली है।

यह नही समझिए कि बीजेपी की सरकार नही बनेगी

राव साहेब ने अपनी बात में यह भी कहा कि आप लोग यह नही समझिए कि महाराष्ट्र में बीजेपी की सरकार नही बनेगी, हमारी यह बात याद रखिएगा। रावसाहेब दानवे की इस भविष्यावाणी के बाद से ही महाराष्ट्र की राजनीति सियासत में काफी गरमाहट चल रही है।

यह भी पढ़ें : 

सरकार बनने के बाद बताएंगे कैसे बनी सरकार

राव साहेब ने अपने कार्यकर्ताओं से कहा कि वो चुनाव खत्म हो जाने का इंतजार कर रहे हैं। राव साहेब ने यह भी कहा कि वो उन्हें सरकार बन जाने के बाद बताएंगे कि किस तरह बीजेपी की सरकार बनी है।

शिव सेना ने बीजेपी पर तंज कसा

गौरतलब है कि कुछ दिनों पहले ही पिछले साल 23 नवंबर को बीजेपी की सरकार बनने और देवेन्द्र फणवीस के मुख्यमंत्री पद की शपथ ग्रहण को लेकर जो केवल 80 घंटे तक ही रही, शिवसेना ने बीजेपी पर तंज कसा था जिसके बाद से ही महाराष्ट्र में सियासी हलचल तेज हो गई।

Related Articles