कोरोना महामारी के बीच बागपत का ये गांव बना मिशाल, अबतक नहीं है एक भी संक्रमित

बागपत: जहाँ एक तरफ कोरोना महामारी (Corona Epidemic) पूरे विश्व के लिए मुसीबत का सबब बना हुआ है वही दूसरी ओर उत्तर प्रदेश के बागपत जिले का एक गांव लोगो के लिया मिशाल कायम कर रहा है। बागपत जिले में अभी तक 750 से ज्यादा लोग सक्रमित हो चुके है तो अबतक 50 से ज्यादा लोग अपनी जान गवा चुके है। पर जिले के इस मुस्लिम बाहुल्य गांव सौंटी में कोरोना अभी तक किसी का बाल भी बांका नहीं कर सका। पहली लहर से लेकर दूसरी लहर तक सौंटी गांव में अभी तक एक भी संक्रमित नहीं मिला है।

अबतक नहीं है गांव में एक भी Corona संक्रमित

ग्रामवासियों की माने तो गांव की आबादी लगभग 3400 के आसपास है। गांव वालो ने कड़े नियम कानूनों का पालन करते हुए कोरोना (Corona) को अपने यहाँ दस्तक दी। उनके द्वारा समाजिक स्टार पर लिए गए फैसलों की बदौलत ही कोरोना जैसी महामारी ने भी उनके सामने घुटने टेक दिए है। गांव वालों ने शुरुआत से ही सतर्कता अपनानी शुरू कर दी थी, जिसकी बदौलत 13 माह बाद भी सौंटी गांव में कोरोना संक्रमण (Corona Infection)का एक भी मामला सामने नहीं आ सका है।

गांव के लोगो ने कोरोना (Corona) से बचाव के लिए कुछ कड़े प्रतिबंध लगा रखे है जिनका पालन सारे ग्राम वासी करते है। गांव में गर्भवती महिलाओं, बच्चों और बुजुर्ग लोगों के घर से बाहर नहीं निकलने पर मनाही है। सौंटी गांव में न तो रिश्तेदार आते हैं और न ही गांव के लोग रिश्तेदारों के यहाँ जाते है। युवा घर से बाहर निकलते है तो पूरी सेफ्टी के साथ मास्क और गमछा लगाकर। कोरोना वायरस (Corona virus) के रहते गांव में शादी विवाह या अन्य भीड़ वाले समारोह भी नहीं किये जा रहे है। साथ ही गांव के लोग दूसरे गांव से सीधा संपर्क भी रखते है।

गांव के लोगों ने साफ़ तौर से जाहिर कर दिया है कि अगर कोरोना महामारी से बचने के लिए सामाजिक स्तर पर और भी कड़े फैसले लेने पड़े तो पीछे नहीं हटेंगे। गांव के सभी लोग वैक्सीन भी लगवा रहे है और लोगों से वैक्सीन लगवाने की अपील कर रहे है।

ये भी पढ़े: हो गए Covid-19 Positive या दिख रहे हैं लक्षण, तो घबराएं नहीं, रोज सुबह खाली पेट पीएं, जल्द होने लगेगी रिकवरी

Related Articles