उत्तर प्रदेश में लव जिहाद करने वालों की अब खैर नहीं, योगी कैबिनेट में पास हुआ अध्यादेश

सीएम आवास पर हुई एक बैठक में लव जिहाद पर कानून पास कर दिया गया है। लव जिहाद और गैरकानूनी धर्म परिवर्तन रोकने के लिए यूपी सरकार एक अध्यादेश लाइ है।

नई दिल्ली : प्यार की आड़ में लव जिहाद का गंदा खेल खेलने वाले अब सावधान हो जाएं। क्योंकि उनकी सारी करतूतों का हिसाब करने वाला कानून अब यूपी की योगी कैबिनेट में पास हो चुका है। सीएम आवास पर हुई एक बैठक में लव जिहाद पर कानून पास कर दिया गया है। लव जिहाद और गैरकानूनी धर्म परिवर्तन रोकने के लिए यूपी सरकार एक अध्यादेश लाइ है और राज्यपाल की मंजूरी के बाद ये कानून लागू भी हो जाएगा।

इस अध्यादेश में लव जिहाद के खिलाफ कड़े कानूनों को मंजूरी दे दी गई है। आपको बता दें कि जानकारी के मुताबिक इसे गैर कानूनी धर्मांतरण निरोधक बिल के नाम से जाना जाएगा। दूसरे धर्म में शादी करने पर अब डीएम की इजाजत लेनी होगी।

दूसरे धर्म में शादी करने पर अब डीएम की लेनी होगी इजाजत

उत्तर प्रदेश के कई शहरों में लव जिहाद के मामले सामने आने के बाद योगी सरकार ने लव जिहाद के खिलाफ कानून लाने का ऐलान किया था और अब इस कानून पर योगी कैबिनेट ने मुहर भी लगा दी है। मंगलवार को गैरकानूनी धर्म परिवर्तन अध्यादेश कैबिनेट मीटिंग में भी पास हो गया। अध्यादेश के मुताबिक, दूसरे धर्म में शादी करने पर अब डीएम की इजाजत लेनी होगी।

इसके लिए शादी से पहले राज्यपाल 2 महीने की नोटिस भी देनी होगी। और अगर आपने ऐसा नहीं किया तो इसके लिए आपको खामियाज़ा भी भुगतना पड़ेगा। आपको बता दें कि बिना अनुमति लिए शादी करने या धर्म परिवर्तन करने पर 6 महीने से लेकर 3 साल तक की सजा के साथ 10 हजार का जुर्माना भी देना पड़ेगा।

अध्यादेश में और कौन कौन से प्रावधान लागू किए गए हैं

इसके अलावा अध्यादेश में नाम छिपाकर शादी करने वाले के लिए 10 साल की सजा का प्रावधान है। और गैरकानूनी तरीके से धर्म परिवर्तन पर एक से 10 साल तक की सजा और साथ ही साथ 15 हजार तक का जुर्माना भी देना पड़ सकता है। इसके अलावा सामूहिक रूप से गैरकानूनी तरीके से धर्म परिवर्तन करने पर जहां 10 साल तक सजा हो सकती है, वहीं 50 हजार तक जुर्माना भी देना पड़ सकता है।

यह भी पढ़ें :

योगी सरकार के कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने क्या कहा

गैरकानूनी धर्म परिवर्तन अध्यादेश को लेकर योगी सरकार के कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने कहा कि आज उत्तर प्रदेश कैबिनेट ‘उत्तर प्रदेश विधि विरुद्ध धर्म समपरिवर्तन प्रतिषेध अध्यादेश 2020’ लेकर आई है। जो उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्था सामान्य रखने के लिए और महिलाओं को इंसाफ दिलाने के लिए जरूरी है। उन्होंने कहा, ‘बीते दिनों में 100 से ज्यादा घटनाएं सामने आई थीं, जिनमें ज़बरन धर्म परिवर्तित किया जा रहा है। इसके अंदर छल-कपट, बल से धर्म परिवर्तित किया जा रहा है। इसपर कानून को लेकर एक आवश्यक नीति बनी, जिसपर कोर्ट के आदेश आए हैं और आज योगी जी की कैबिनेट अध्यादेश लेकर आई है।’

वहीं यूपी की तरह ही मध्य प्रदेश सरकार भी लव जिहाद के खिलाफ कड़े कानून लाने की तैयारी कर रही है. मध्य प्रदेश सरकार ने अपने प्रस्तावित बिल में पांच साल की कठोर सजा का प्रावधान किया है और मामले गैर जमानती धाराओं में दर्ज होंगे. वहीं हरियाणा में निकिता तोमर की हत्या के बाद हरियाणा सरकार ने भी लव जिहाद के ख़िलाफ़ कानून लाने की बात कही है. फिलहाल आज योगी सरकार ने लव जिहाद पर सबसे पहले कानून लाकर इतिहास रच दिया है. अब 20 करोड़ हिन्दुस्तानियों को लव जिहाद से आजादी मिल गई है. हमारी मुहिम है कि 130 करोड़ हिन्दुस्तानियों को लव जिहाद से आजादी मिले.

 

 

Related Articles