सिंगल, डबल के बाद भारत के लिए बनी तीन डोज वाली वैक्सीन, बच्चों को लगेगा टीका

नई दिल्ली: भारत में इन दिनों कोरोना संक्रमण (Corona Infection) की रफ्तार में कम तो हो रही है लेकिन अभी भी इसका का खतरा टला नहीं है। पहली लहर के बाद जैसे दूसरी लहर ने आक्रमण किया थी वैसे ही देश में कोरोना की तीसरी लहर का डर सता रहा है। कोरोना के खिलाफ लफी जा रही जंग में भारत के पास शुक्रवार को एक और नया हथियार मिल गया है।

भारत मे अभी तक 18 से अधिक उम्र वालो को ही कोरोना वैक्सीन की डोज लगाई जा रही थी लेकिन अब देश को 12 वर्ष से अधिक उम्र के बच्चों के लिए वैक्सीन मिल गई है। ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DGCI) ने भारत देश मे जाइडस कैडिला (Zydus Cadila ) की तीन डोज वाली वैक्सीन को आपातकालीन इस्तेमाल के लिए मंजूरी दे दी है। आपको बता दें कि यह एक प्रकार का डीएनए वैक्सीन (DNA vaccine) है और अब भारत के पास कुछ छह कोरोना वैक्सीन हो गई है।

120 मिलियन तक खुराक बनाने की योजना

कंपनी ने बताया है कि सालाना वैक्सीन की 100 मिलियन से 120 मिलियन तक खुराक बनाने की योजना है। वैक्सीन जाइडस का स्टॉक बनाने का काम शुरू हो गया है। जाइडस कैडिला ने अपनी तीन डोज वाली वैक्सीन को देशभर में 28000 से अधिक स्वयंसेवक पर ट्रायल किया था। परीक्षण में कोरोना के खिलाफ 66.6 प्रतिशत तक प्रभावी पाई गई थी। इस वैक्सीन को डिपार्टमेंट ऑफ बायोटेक्नोलॉजी के साथ मिलकर बनाई है वैक्सिन।

दुनिया की पहली वैक्सीन

भारत मे Zydus Cadila की ZyCoV-D कोरोना वैक्सीन का तीन चरण का ट्रायल हुआ है। जाइडस की यह वैक्सीन दुनिया की पहली वैक्सीन है जो डीएनए बेस्ड है। इससे पहले दुनिया भर जितनी भी वैक्सीन थी या तो सिंगल या डबल डोज थी,यह पहली वैक्सीन होगी जो तीन खुराक वाली है।

Related Articles