उत्तर प्रदेश निजी विश्वविद्यालय अधिनियम, 2019 में किए गए तीन महत्वपूर्ण संशोधन

लखनऊः उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री डॉक्टर दिनेश शर्मा ने बताया कि ’उत्तर प्रदेश निजी विश्वविद्यालय अधिनियम, 2019’ (उत्तर प्रदेश अधिनियम संख्या-12 सन् 2019) में तीन महत्वपूर्ण संशोधन किए गये हैं। प्रथम संशोधन निजी क्षेत्र में स्थापित विश्वविद्यालयों को ’आफ-कैम्पस केन्द्र’ स्थापित करने हेतु अनुमति प्रदान की। दूसरा संशोधन महाविद्यालयों के नाम मानक के अनुसार भूमि उपलब्ध होने पर निजी विश्वविद्यालयों की स्थापना की अनुमति प्रदान किया जाना जबकि तीसरा संशोधन निजी विश्वविद्यालय अधिनियम, 2019 के अधीन स्थापित अथवा निगमित विश्वविद्यालयों की प्रथम परिनियमावलियाँ कार्यपरिषद् द्वारा बनाया जाना शामिल है।

उप मुख्यमंत्री ने बताया कि संशोधित अधिनियम में निजी क्षेत्र में स्थापित विश्वविद्यालयों को ’आफ-कैम्पस केन्द्र’ स्थापित करने हेतु अनुमति प्रदान कर दी गई है। ’आफ-कैम्पस केन्द्र’ निजी विश्वविद्यालय की घटक इकाई के रूप में संचालित किए जाएंगें। इन्हें सम्बद्धता प्रदान करने का अधिकार उस निजी विश्वविद्यालय को नहीं होगा।

आफ-कैम्पस केन्द्र

निजी क्षेत्र के विश्वविद्यालयों को मुख्य परिसर के अतिरिक्त ’आफ-कैम्पस केन्द्र’ स्थापित किये जाने की अनुमति प्रदान किये जाने के फलस्वरूप नई शिक्षा नीति-2020 की अपेक्षा के अनुरूप उच्च शिक्षण संस्थाओं की संख्या में वृद्धि होगी। नई शिक्षा नीति-2020 में प्रत्येक जिले में अथवा उसके निकट न्यूनतम एक उच्च शिक्षण संस्थान की स्थापना करना, सकल नामांकन दर में वृद्धि करना एवं उच्च शिक्षण संस्थाओं को संस्थागत स्वयत्तता प्रदान किये जाने के बिन्दु सम्मिलित हैं।

संशोधित अधिनियम में व्यवस्था

संशोधित अधिनियम में व्यवस्था दी गई है कि महाविद्यालयों के नाम मानक के अनुसार भूमि उपलब्ध होने पर निजी विश्वविद्यालय की स्थापना की अनुमति प्रदान कर दी गई है। ऐसी भूमि, जो महाविद्यालय के नाम है, को विश्वविद्यालय की प्रायोजक संस्था द्वारा धारित माना जायेगा तथा निजी विश्वविद्यालय अधिनियम, 2019 के प्राविधानों के अन्तर्गत विश्वविद्यालय की स्थापना हेतु प्रायोजक संस्था द्वारा धारित माना जायेगा।

विश्वविद्यालयों की प्रथम परिनियमावलियाँ

निजी विश्वविद्यालय अधिनियम, 2019 के अधीन स्थापित अथवा निगमित विश्वविद्यालयों की प्रथम परिनियमावलियाँ कार्यपरिषद् द्वारा बनाया जाएगा तथा विश्वविद्यालय द्वारा बनायी गयी प्रथम परिनियमावलियों को राज्य सरकार द्वारा अनुमोदन किये जाने की आवश्यकता नहीं होगी तथा विश्वविद्यालयों को परिनियम बनाने में स्वायत्तता प्राप्त होगी।

Related Articles