हेपेटाइटिस सी वायरस की खोज करने वाले तीन वैज्ञानिकों को मिलेगा नोबेल पुरस्कार

नई दिल्लीः दुनिया के सबसे मशहूर खिताब नोबेल पुरस्कार को देने की घोषणा कर दी गई है। हेपेटाइटिस सी वायरस की खोज करने वाले तीन वैज्ञानिकों को इस साल का मेडिसिन के नोबेल पुरस्कार से नवाजा जाएगा। तीन वैज्ञानिकों की इस फेहरिस्त में अमेरिका के वैज्ञानिक हार्वि जे आल्टर, चार्ल्स एम राइस और ब्रिटेन के माइकल हागटन का नाम शामिल है।

इन वैज्ञानिकों  को हेपेटाइटिस सी वायरस की खोड करने के लिए नोबेल दिया जाएगा, जिसकी घोषणा खुद नोबेल कमेटी के प्रमुख थॉमस पर्लमैन ने स्टॉकहोम में की है।

हेपेटाइटिस सी वायरस

हेपेटाइटिस सी वायरस को क्रॉनिक बीमारी की श्रेणी में रखा जाता है। इससे लीवर से जुड़ी बीमारियों और कैंसर का खतरा रहता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के आकंड़ों के अनुसार दुनिया भर में कुल 70 मिलियन हेपेटाइटिस के केस हैं। इस वायरस के कारण दुनिया में हर साल लगभग 4 लाख लोगों की मौत होती है।

नोबेल पुरस्कार

नोबेल पुरस्कार स्वीडन के वैज्ञानिक अल्फ्रेड नोबल की याद में दिया जाता है। यह पुरस्कार 6 क्षेत्रों मसलन भौतिकी, रसायनविज्ञान, साहित्य, शांति और अर्थशास्त्र में दिया जाता है। जिसकी घोषणा हर साल 12 अक्टूबर तक की जाती है।

वहीं चिकित्सा के क्षेत्र का सबसे बड़ा खिताब समझे जाने वाले नोबेल पुरस्कार में 10 मिलियन स्वीडिश क्रॉनर और एक गोल्ड मेडल दिया जाता है।

इस साल के आगाज के साथ जहां दुनिया भर की चिकित्सा टीम कोरोना का काट ढूड़ने में जुटी है। ऐसे में चिकित्सा क्षेत्र में दिए जाने वाले नोबेल पुरस्कार का खास महत्व है। यह पुरस्कार दुनिया के लिए मेडिकल क्षेत्र में रिसर्च के महत्व को दर्शाती है।

Related Articles