Himachal में टिकैत ने भरी हुंकार, सेब बागवानों की लड़ाई का एलान अब आंदोलन की नीवं हिमाचल में भी

भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने अब केंद्र सरकार के खिलाफ हिमाचल से हुंकार भरी है. सेब बागवानों और किसानों की समस्याओं को लेकर आंदोलन खड़ा करने का एलान किया है

हिमाचल प्रदेश: भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने अब केंद्र सरकार के खिलाफ हिमाचल से हुंकार भरी है. सेब बागवानों और किसानों की समस्याओं को लेकर आंदोलन खड़ा करने का एलान किया है. हिमाचल में क्रांति लाने की बात कही है. किसान आंदोलन को मजबूत करने और हिमाचल के किसानों के मुद्दों को लेकर टिकैत ने कहा कि प्रदेश की ठंडी फिजाओं में आंदोलन की गर्माहट पैदा करेंगे. किसानों को एकजुट करेंगे. शनिवार को राकेश टिकैत हिमाचल पहुंचे. टिकैत सोलन होते हुए प्रदेश की राजधानी शिमला पहुंचे.

टिकैत
टिकैत

जानें टिकैत ने क्या कहा हिमाचल प्रदेश को लेकर

शिमला एक प्रेस वार्ता के दौरान राकेश टिकैत ने कहा कि हिमाचल सरकार को सेब बागवानों के हितों की रक्षा करनी चाहिए. इस बारे में राज्य सरकार से बात की जाएगी. सेब के दामों में भारी गिरावट पर उन्होंने कहा- “ये बेहद चिंता का विषय है, निजी कंपनियों के साथ सांठगांठ के चलते ये दाम गिर रहे हैं. साथ ही कहा कि हिमाचल में 10 साल पहले इस खेल की शुरूआत हुई, जो अब खूब फल-फूल रहा है. सेब के दाम करने को लेकर टिकैत में अडानी ग्रूप पर भी ताबड़तोड़ हमले किए और कई आरोप लगाए. साथ ही कहा कि बागवानों को राहत देते हुए सरकार को सेब की ढुलाई पर ट्रांसपोर्ट सब्सिडी देनी चाहिए, ताकि बागवानों को कुछ राहत मिल सके”.

gautam adani, PM modi
gautam adani, PM modi

टिकैत ने अडानी ग्रुप पर बोला हमला

राकेश टिकैत ने कहा कि हिमाचल में सेब सीजन जोरों पर है और कंपनियां मनमानी पर उतर आई हैं. उन्होंने आरोप लगाया कि अदानी समूह सुनियोजित तरीके से सेब के दाम कम करवा रहा है. 10 साल पहले उन्होंने यहां से ये कारोबार शुरू किया था, अडानी ग्रूप बागवानों के सस्ता सेब खरीद रहा है और अब ये कंपनियां खाद्यान्नों पर कब्जा करना चाहती हैं. साथ ही कहा कि इस बारे में दिल्ली में चल रहे किसान आंदोलन में बताया जाएगा कि किस तरह से सेब बागवानों के कारोबार को प्रभावित किया जा रहा है.

जाने हिमाचल में आंदोलन को लेकर क्या बोला टिकैत ने

हिमाचल में आंदोलन को लेकर टिकैत ने कहा कि इसको लेकर किसानों-बागवानों से बात की जाएगी और आंदोलन खड़ा किया जाएगा. दिल्ली में चल रहे किसान आंदोलन पर उन्होंने एक फिर से साफ किया कि जब कर केंद्र सरकार तीनों कृषि कानूनों को वापस नहीं लेती, तब तक आंदोलन चलता रहेगा. राकेश टिकैत ने कहा कि 5 सितंबर को मुजफ्फरनगर में किसानों की महापंचायत होगी, उसमें अब तक के 9 महीने के आंदोलन की समीक्षा की जाएगी और आगामी रणनीति बनाई जाएगी.

 

यह भी पढ़ें:हरियाणा में प्रदर्शन कर रहे किसानों पर पुलिस द्वारा लाठीचार्ज

(Puridunia हिन्दीअंग्रेज़ी के एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

Related Articles