आकाश हेल्थकेयर ने दिए ऐसे टिप्स, जो माताओं और बच्चों को स्वास्थ्य के लिए मूल्यवान

नई दिल्ली| आकाश हेल्थकेयर सुपर स्पेशिएलिटी ने द्वारका मॉम्स समूह के साथ मिलकर जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया जिसमें 150 से ज्यादा माताएं अपने बच्चों के साथ शामिल हुईं और उन्हें तनाव से निपटने के टिप्स दिए गए। माताओं और बच्चों को स्वास्थ्य से जुड़ी मूल्यवान जानकारी देने के लिए आकाश हेल्थकेयर ने यह पहल की जिसमें कई विशेष सत्रों में 60 से ज्यादा बच्चों और उनके माता-पिता को लाभ मिला। इस कार्यक्रम में साइकोलॉजिस्ट, साइकियाट्रिस्ट और दांतों व आंखों के विशेषज्ञ भी मौजूद थे।

शहरों में एकल परिवारों की बढ़ती संख्या की वजह से मनोवैज्ञानिक और व्यवहारात्मक समस्याएं पैदा हो रही हैं जो माताओं और बच्चों पर प्रभाव डाल रही हैं। इस मुद्दे पर जागरूकता बढ़ाने वाली इस पहल पर आकाश हेल्थकेयर के मैनेजिंग डायरेक्टर और ऑर्थोपेडिक सर्जन डॉ. आशीष चौधरी ने कहा कि मां बहुत खास होती है और वह अपने परिवार को बिना शर्त प्यार और सहयोग प्रदान करती है। बच्चे अपनी मां के साथ सबसे सुरक्षित महसूस करते हैं। इस कार्यक्रम में जिस तरह अभिभावकों ने भागीदारी की, उससे हम उत्साहित हैं। हम इस तरह की गतिविधियों को सपोर्ट करते रहेंगे और परिवार के संपूर्ण विकास के लिए आगे भी ऐसा ही करते रहेंगे।

द्वारका मॉम्स कार्यक्रम की शुरुआत विशेष सभा के साथ हुई, माताओं के लिए प्रेम और समर्पण को जाहिर किया गया। माता-पिता का फ्री हेल्थ चेक-अप किया गया। बच्चों के लिए किड्स जोन में कई गतिविधियों का आयोजन किया गया।

इसके साथ-साथ सीनियर डॉक्टरों ने काउंसिलिंग की। परिवारों को स्वस्थ रहने के टिप्स दिए। उन्हें बताया कि वे किस तरह अपने बच्चों को अच्छी और स्वस्थ आदतें लगा सकते हैं। विशेषज्ञों ने इस बात पर जोर दिया कि बच्चों को नैतिकता का पाठ पढ़ाया जाए ताकि वे सही तरीके से अपने माता-पिता को खुश और संतुष्ट रख सकें।

डॉ. मीनल चौधरी ने माताओं को स्वस्थ रहने के लिए मार्गदर्शन दिया। उन्हें साफ-सफाई की आदतों को अपनाने और संतुलित आहार लेने का महत्व भी समझाया। डॉक्टरों ने कई तरह के टीकाकरण की भी बात की। डॉक्टरों ने महिलाओं और उनके पतियों के कई सवालों के जवाब भी दिए।

द्वारका मॉम्स ग्रुप की हेड काजल ने कहा कि जिन बच्चों, परिवारों और समुदाय के लिए हम काम कर रहे हैं, उनके सर्वागीण विकास के लिए हम चिंतित हैं और हमें उम्मीद है कि डॉ. मीनल चौधरी के नेतृत्व में ग्रुप की सदस्यों को सही और उचित मार्गदर्शन मिला। जागरूकता भी बढ़ी है, जिसके लिए हमारी सदैव कोशिश रहती है।

Related Articles