आज का पंचांग: मूल के प्रथम पद में पिता के जीवन में परिवर्तन,द्वितीय पद माता के लिए अशुभ

मंगलवार, २४ जुलाई २०१८

सूर्योदय:  ०५:४२

सूर्यास्त:  ०७:१३

चन्द्रोदय:  १६:३३

चन्द्रास्त: २७:१६

अयन  दक्षिणायन (उत्तरगोले)

ऋतु: ?वर्षा

शक सम्वत:  १९४० (विलम्बी)

विक्रम सम्वत: २०७५ (विरोधकृत)

युगाब्द  ५१२०

मास आषाढ़

पक्ष: शुक्ल

तिथि:  द्वादशी (१८:२५ तक)

नक्षत्र:  ज्येष्ठा (१५:२९ तक)

योग: ब्रह्म (०८:०२ तक)

प्रथम करण:  बालव

द्वितीय करण:  कौलव

 

॥ गोचर ग्रहा:॥

============

सूर्य    कर्क

चंद्र     धनु (१५:२८ से)

मंगल  मकर

बुध    कर्क

गुरु    तुला

शुक्र   सिंह

शनि   धनु

राहु    कर्क

केतु    मकर

 

शुभाशुभ मुहूर्त विचार

=================

अभिजित मुहूर्त:  ११:५५ – १२:५०

अमृत काल:  ०५:४४ – ०७:३०

होमाहुति:  शनि

अग्निवास:  पृथ्वी (१८:२५ तक)

दिशा शूल:  उत्तर

नक्षत्र शूल:  पूर्व (१५:३० तक)

चन्द्र वास:  उत्तर (पूर्व १५:३० से)

दुर्मुहूर्त:  ०८:१८ – ०९:१२

राहुकाल:  १५:४७ – १७:२९

राहु काल वास:  पश्चिम

यमगण्ड:  ०८:५९ – १०:४१

 

चौघड़िया विचार

==============

॥ दिन का चौघड़िया ॥

१ – रोग       २ – उद्वेग

३ – चर        ४ – लाभ

५ – अमृत     ६ – काल

७ – शुभ       ८ – रोग

॥रात्रि का चौघड़िया॥

१ – काल      २ – लाभ

३ – उद्वेग      ४ – शुभ

५ – अमृत     ६ – चर

७ – रोग        ८ – काल

नोट– दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है। प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है।

 

शुभ यात्रा दिशा

============

उत्तर-पश्चिम (धनिया अथवा दलिया का सेवन कर यात्रा करें)

 

तिथि विशेष

==========

विष्णु शनयोत्सव आदि।

 

आज जन्मे शिशुओं का नामकरण

==========================

आज १५:२९ तक जन्मे शिशुओ का नाम

ज्येष्ठा तृतीय, चतुर्थ चरण अनुसार क्रमशः (यी, यू) तथा इसके बाद जन्मे शिशुओ का नाम मूल प्रथम, द्वितीय, तृतीय चरण अनुसार क्रमशः (ये, यो, भ) नामाक्षर से रखना शास्त्र सम्मत है।

 

ज्येष्ठा एवं मूल नक्षत्र के चारो चरण गंडमूल के अंतर्गत आते है ज्येष्ठा के तृतीय पद में जन्म होने से माता के लिए अशुभ

चतुर्थ पद में स्वयं के लिए अशुभ तथा मूल के प्रथम पद में पिता के जीवन में परिवर्तन, द्वितीय पद में माता के लिए अशुभ, तृतीय पद में संपत्ति की हानि होती है जन्म से २७ वे जन्म नक्षत्र के दिन नक्षत्र शांति कराना शास्त्रोक्त अनिवार्य है।

 

उदय-लग्न मुहूर्त:

==============

०५:३४ – ०७:२२ कर्क

०७:२२ – ०९:४१ सिंह

०९:४१ – ११:५९ कन्या

११:५९ – १४:२० तुला

१४:२० – १६:३९ वृश्चिक

१६:३९ – १८:४३ धनु

१८:४३ – २०:२४ मकर

२०:२४ – २१:५० कुम्भ

२१:५० – २३:१३ मीन

२३:१३ – २४:४७ मेष

२४:४७ – २६:४२ वृषभ

२६:४२ – २८:५७ मिथुन

२८:५७ – २९:३५ कर्क

Related Articles