आज का पंचांग: जानिए रविवार का शुभ मुहूर्त, तिथि विशष और राहुकाल!

0

19 अगस्त 2018 दिन रविवार को कौन सा शुभ योग बन रहा है? तिथि विशेष क्या है और शुभाशुभ मुहूर्त और राहुकाल कब है, जानिए आज के पंचांग में…

* पञ्चाङ्ग रविवार, १९ अगस्त २०१८*
========================

सूर्योदय: ०५:५६
सूर्यास्त: ०६:५३
चन्द्रोदय: १३:३५
चन्द्रास्त: २४:३०
अयन दक्षिणायन (उत्तरगोले)
ऋतु: 🌳वर्षा
शक सम्वत: १९४० (विलम्बी)
विक्रम सम्वत: २०७५ (विरोधकृत)
युगाब्द ५१२०
मास श्रावण
पक्ष: शुक्ल
तिथि: नवमी (२७:१६ तक)

*॥ गोचर ग्रह ॥*
============

सूर्य- सिंह
चंद्र- वृश्चिक
मंगल- मकर
बुध- कर्क (मार्गी ०९:५४ से)
गुरु- तुला
शुक्र- कन्या
शनि- धनु
राहु- कर्क
केतु- मकर

*शुभाशुभ मुहूर्त विचार*
================

अभिजित मुहूर्त: ११:५४ – १२:४६
अमृत काल: ०८:०१ – ०९:४५
होमाहुति: शुक्र
अग्निवास: पृथ्वी
दिशा शूल: पश्चिम
नक्षत्र शूल: पूर्व (१९:१४ से)
चन्द्र वास: उत्तर
दुर्मुहूर्त: १७:०६ – १७:५८
राहुकाल: १७:१२ – १८:५०
राहु काल वास: उत्तर
यमगण्ड: १२:२० – १३:५७

*उदय-लग्न मुहूर्त*

०५:५० – ०७:५९ सिंह
०७:५९ – १०:१७ कन्या
१०:१७ – १२:३८ तुला
१२:३८ – १४:५७ वृश्चिक
१४:५७ – १७:०१ धनु
१७:०१ – १८:४२ मकर
१८:४२ – २०:०८ कुम्भ
२०:०८ – २१:३१ मीन
२१:३१ – २३:०५ मेष
२३:०५ – २५:०० वृषभ
२५:०० – २७:१५ मिथुन
२७:१५ – २९:३६ कर्क
२९:३६ – २९:५० सिंह

*चौघड़िया विचार*
============

॥ दिन का चौघड़िया ॥
१ – उद्वेग २ – चर
३ – लाभ ४ – अमृत
५ – काल ६ – शुभ
७ – रोग ८ – उद्वेग
॥ रात्रि का चौघड़िया ॥
१ – शुभ २ – अमृत
३ – चर ४ – रोग
५ – काल ६ – लाभ
७ – उद्वेग ८ – शुभ
नोट– दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है। प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है।

*तिथि विशेष*
=========

बुध मार्गी, बंगला भाद्रपद मास आरंभ आदि।

*शुभ यात्रा दिशा*
============

उत्तर-पश्चिम (पान का सेवन कर यात्रा करें)

*आज जन्मे शिशुओं का नामकरण*
========================

आज १९:१४ तक जन्मे शिशुओं का नाम अनुराधा तृतीय, चतुर्थ चरण अनुसार क्रमशः (नू, ने) तथा इसके बाद जन्मे शिशुओं का नाम ज्येष्ठा प्रथम, द्वितीय चरण अनुसार (नो, या) नामाक्षर से रखना शास्त्र सम्मत है।

ज्येष्ठा नक्षत्र के चारों चरण गंडमूल के अंतर्गत आते है इसके प्रथम पद में जन्म होने से बड़े भाई के लिए अशुभ,
द्वितीय पद में छोटे भाई के लिए अशुभ फलदायी है। जन्म से २७ वे जन्म नक्षत्र के दिन नक्षत्र शान्ति करना शास्त्र सम्मत है।

loading...
शेयर करें