Toolkit Document: टूलकिट के राज गहरे, ग्रेटा, निकिता, दिशा के चेहरे हुए बेनकाब

टूलकिट मामले में दिल्ली पुलिस ने निकिता जैकब के खिलाफ सर्च वारंट जारी कर केस के आयोग समेत एक टीम को मुंबई भेजा गया। उनके पास से 2 लैपटॉप और 1 आईफोन मिला

नई दिल्ली: दिल्ली पुलिस ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर टूलकिट मामले (Toolkit Case) की जानकारी देते हुए बताया कि जांच के दौरान टूलकिट के ऑनलाइन मौजूद स्क्रीन शॉट्स की पड़ताल की गई है और जांच में प्राप्त जानकारी मिलते ही इस टूलकिट गूगल डॉक्यूमेंट (Toolkit Google Document) की संपादक निकिता जैकब के खिलाफ सर्च वारंट जारी कर केस के आयोग समेत एक टीम को मुंबई भेजा गया। उनके पास से 2 लैपटॉप और 1 आईफोन मिला है।

साइबर सेल की जांच

ज्वाइंट CP साइबर सेल प्रेम नाथ ने बताया कि जांच में ये भी बात सामने आई कि काव्य न्याय फाउंडेशन के संस्थापक एम ओ डालीवाल अपने कनाडा में रह रहे सहयोगी पुनीत के जरिए निकिता जैकब से संपर्क किया। उनका मकसद गणतंत्र दिवस से पहले और बाद में ट्विटर स्टॉर्म और डिजिटल स्टाइक करना था।

जानें कौन बनाया था गूगल टूलकिट

11 जनवरी को काव्य न्याय फाउंडेशन ने जूम मीटिंग किया जिसमें निकिता, शांतनु ,धालीवाल और अन्य व्यक्तियों ने हिस्सा लिया। धालीवाल का मकसद किसानों के बीच असंतोष और गलत जानकारी फैलाना था। सर्च में पता चला कि निकिता, शांतनु और दिशा ने गूगल टूलकिट गूगल डॉक्यूमेंट बनाया था।

यह भी पढ़ेIND vs ENG: Ashwin ने एक बार फिर कर दिखाया कमाल, जीत के लिए 482 का लक्ष्य

क्या है टूलकिट मामला

दरअसल 4 फरवरी के दिन सोशल मीडिया पर किसान आंदोलन के समर्थन में क्लाइमेट एक्टिविस्ट ग्रेटा थनबर्ग (Greta Thunberg) ने एक ट्वीट किया था और टूलकिट के नाम एक डॉक्यूमेंट शेयर किया था। इसी ट्वीट को देखकर सोशल मीडिया पर काफी विवाद हुआ। विवाद होने के बाद ग्रेटा थनबर्ग ने यह ट्वीट डिलीट (Delete) कर दिया और दूसरा ट्वीट कर दूसरा टूलकिट डॉक्यूमेंट (Second Toolkit Document) शेयर कर दिया। इसी टूलकिट में किसान आंदोलन के बारे में पूरी संक्षिप्त जानकारी थी। नीचे अपलोड यह तस्वीर उनके ट्वीट का स्क्रीनशार्ट है-

ग्रेटा थनबर्ग के ट्वीट का स्क्रीनशार्ट

टूलकिट (Toolkit) क्या है?

टूलकिट एक ऐसा दस्तावेज होता है जिसमें किसी मुद्दे की जानकारी देने के लिए और उस मुद्दे से जुड़ी कदम उठाने के लिए संक्षिप्त जानकारी होती है। टूलकिट के जरिए किसी भी आंदोलन में भाग लेने के लिए उससे जुड़े लोगो को दिशा-निर्देश दिए जाते हैं।

Kisan Andolan: पुलिस ने गूगल (Google) को भेजा नोटिस, टूलकिट की खुलेगी पोल

Related Articles

Back to top button