इंदौर में ट्रैफिक सूबेदार का कांग्रेस नेता से विवाद का वीडियो वायरल

इंदौर: मोबाइल पर बात करते जा रहे एक युवक को जब राजवाड़ा पर ट्रैफिक सूबेदार ने पकड़ा तो उसे बचाने कांग्रेसी नेता मौके पर पहुंच गए। उन्होंने सूबेदार पर एक हजार रुपए लेकर पांच सौ रुपए देने का आरोप लगाया। वहीं सूबेदार का कहना है कि मैंने जो भी किया, सही किया है। अगर एक भी आरोप सही निकला तो मैं नौकरी से इस्तीफा दे दूंगा। इस मामले में सूबेदार को पुलिस अधिकारी ने तलब किया है।

जानकारी के मुताबिक, मामला मंगलवार शाम चार बजे का है। सूबेदार अरुण सिंह राजवाड़ा क्षेत्र में अपनी टीम के साथ चेकिंग कर रहे थे। उन्होंने मनीष दवे नामक युवक को गाड़ी चलाते समय मोबाइल पर बात करते पकड़ लिया। मनीष ने परिचित कांग्रेस नेता अखिलेश जैन को मौके पर बुला लिया। अखिलेश ने बताया कि सूबेदार उससे एक हजार रुपए ले रहे थे और पांच सौ की रसीद दे रहे थे। हम वहां पहुंचे तो विवाद करने लगे। इस पर हमने उनका वीडियो बना लिया। हमने कांग्रेस अध्यक्ष को इसकी शिकायत की है। वे बुधवार को इस मामले में एएसपी ट्रैफिक से सूबेदार की शिकायत करेंगे। पुलिस चेकिंग के नाम पर आम जनता को परेशान कर रही है।

मंत्री के नाम से धमकी दी

इधर सूबेदार अरुण सिंह का कहना है कि अखिलेश वहां आते ही पूर्व विधायक अश्विन जोशी से बात करने का दबाव बनाने लगे। मैंने मना किया तो मंत्री जीतू पटवारी के नाम की धमकी दी। मैंने आचार संहिता का हवाला देकर किसी से भी बात करने से इनकार कर दिया। चूंकि दवे की गलती थी इसलिए चालान बनाया था। मुझ पर लगे आरोप गलत हैं। मैंने वरिष्ठ अधिकारियों को मामले की जानकारी दी है।

Related Articles